ये 25 'महामानव' जिन्होंने बनाया भारत को

अनिरुद्ध जोशी 'शतायु'|
टीपू सुल्तान (जन्म: 20 नवम्बर, 1750 ई. ; मृत्यु- 4 मई 1799 ई.) : टीपू सुल्तान को भारत इतिहास में अंग्रेजों से लड़ने वाला महान योद्धा माना जाता है। उसे 'शेर-ए-मैसूर' कहा गया है। अंग्रेजों ने मराणों, निजाम और सिखों के साम्राज्य को अपने अधिन कर लिया था। अब बस बचा था तो सिर्फ सुल्तान का राज्य। 
 
मैसूर के टीपू सुलतान ने अंग्रेज फौजों के खिलाफ रॉकेटों का उपयोग किया था। 1772 और 1799 में श्रीरंगपट्टनम में दो लड़ाइयां हुईं। इनमें टीपू के सिपाहियों ने 6 से लेकर 12 पौंड तक के रॉकेट फिरंगियों पर फेंके। टीपू ने अंग्रेजों को कई बार भगाया। मैसूर की तीसरी लड़ाई में भी जब अंग्रेज़ टीपू को नहीं हरा पाए तो उन्होंने मैसूर के इस शेर से 'मंगलोर की संधि' नाम से एक समझौता कर लिया।
 
'फूट डालो, शासन करो' की नीति चलाने वाले अंग्रेजों ने संधि करने के बाद टीपू से गद्दारी कर डाली। ईस्ट इंडिया कंपनी ने हैदराबाद के साथ मिलकर चौथी बार टीपू पर ज़बर्दस्त हमला किया और आख़िरकार 4 मई सन् 1799 ई. को मैसूर का शेर श्रीरंगपट्टनम की रक्षा करते हुए शहीद हो गया।



और भी पढ़ें :