क्या पाकिस्तान के टुकड़े होंगे? जानिए कैसे,

Last Updated: शनिवार, 2 नवंबर 2019 (14:36 IST)
के मुद्दे पर इन दिनों भारत और के संबंध इस हद तक खराब हो चुके हैं जितने कभी भी नहीं रहे हैं। इसका एक बड़ा कारण है कि पहली बार भारत के प्रधानमंत्री द्वारा पाकिस्तान की दुखती रग को छेड़ा गया है। जितना संवेदनशील भारत कश्मीर को लेकर है उससे कई अधिक नाजुक रिश्ता पाकिस्तान का के साथ रहा है। 1948 में बलूचिस्तान पर पाकिस्तान के कब्जे के बाद से ही स्थानीय लोगों और पाक सेना में झड़पे चलती रही हैं। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा बलोच लोगों को समर्थन के तुरंत बाद बलूचिस्तान में पाकिस्तान से आजादी की मांग तेज हो गई और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी इस मसले को हवा मिली है। 

बलूचिस्तान में पाक सेना-पुलिस के स्थानीय लोगों पर अत्याचार, भारत की एनएसजी (न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप) सदस्यता को लेकर दोनों देशों का विरोध और चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (चाइना-पाकिस्तान इकॉनामिक कॉरिडोर) को लेकर दोनों पड़ोसी देशों को लेकर भारत सरकार की नीति में यह महत्वपूर्ण बदलाव का संकेत है। MUST READ : ग्वादर पर गदर, मोदी का दोहरे मोर्चे पर लड़ाई का इरादा 
इस सारे घटनाक्रम से अनुमान लगाया जा रहा है कि संभव है कि आने वाले कुछ समय में पाकिस्तान का नक्शा एक बार फिर बदल सकता है।  हालांकि किसी भी भावी घटनाक्रम का पूर्वानुमान लगाने के लिए बहुत सारे किंतु, परन्तुओं का इस्तेमाल करना होता है लेकिन कभी-कभी कल्पना भी  वास्तविकता से ज्यादा प्रखर हो सकती है। जहां पर देश की सुरक्षा की बात आती है तो भारतीय एजेंसियां फिलहाल आंतरिक सुरक्षा पर अधिक ध्यान दे रही हैं। 
 
देखा जाए तो पिछले कुछ सालों खासकर अमेरिकी फौज के अफगानिस्तान से हटने के बाद भारत-अफगानिस्तान संबंधों में अधिक प्रगाढ़ता आई है।  इसकी वजह से बलूचिस्तान पर पाकिस्तान की पकड़ कमजोर प‌ड़ने लगी है। उल्लेखनीय है कि मोदी के बलूचिस्तान पर आए बयान के तुरंत बाद पूर्व अफगान राष्ट्रपति हामिद करजई ने इस बयान का स्वागत किया था। यह भी पढ़ना न भूलें : बलूचिस्तान का प्राचीन इतिहास और समस्या की वजहें... 
यदि पिछले कुछ सालों में भारत और अफगानिस्तान के संबंधों पर नजर डाले तो कहा जा सकता है कि फिलहाल भारत, दक्षिणी अफगानिस्तान में अपनी मौजूदगी को पुख्ता बनाने के उपाय कर रहा है। भारतीय एजेंसिया अफगानिस्तान में हवाई अड्‍डों और हेलीपैड्‍स को बना रहा है और इन बुनियादी सेवाओं के निर्माण के लिए बड़ी मात्रा में सामान तजाकिस्तान स्थित फरखोर हवाई अड्‍डे से उपलब्ध हो रहा है।> > विदित हो कि फरखोर कस्बा ताजिकिस्तान में है और देश की राजधानी दुशान्बे से करीब 130 किमी (81मील) दक्षिण पूर्व में स्थि‍त है। इस सैनिक अड्‍डे को भारतीय वायु सेना, ताजिक वायु सेना के साथ मिलकर संचालित करती  है।
गौर करें कि फरखोर भारत का पहला और एकमात्र सैनिक अड्‍डा है जोकि देश के भूभाग से बाहर है और एक स्टेजिंग पाइंट के तौर पर आदर्श है। कुछ रिपोर्ट के मुताबिक भारत दक्षिण अफगानिस्तान और पाकिस्तान सीमा (पंजाब और राजस्थान) पर बड़े पैमाने पर हथियारों और सैन्यबल जुटा रहा है। यहां पर कई सैन्य डिवीजन और टैंक और आर्मड रेजिमेंट्स  की तैनाती की जा रही है। इसके साथ ही, भारतीय नौसैनिक बल और मैरीन कमांडोज को भी दुरुस्त हालत में युद्ध का सामना करने के लिए तैयार किया जा रहा है। हाल ही में भारत ने चीन से लगी अपनी सीमा में सुपरसोनिक ब्रह्मोस मिसाइल तैनात कर अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। 
 
सुरक्षा विशेषज्ञ मानते हैं कि भारत-पाक युद्ध की स्थिति में भारत की जीत तभी सुनिश्चित की जा सकती है जबकि भारतीय वायुसेना कार्रवाइयों के शुरू होने के मात्र 12 घंटों के अंदर ही पाकिस्तान की वायुसेना पर काबू पा ले। पीओके, गिलगित और बाल्टिस्तान पर हमले के लिए सेना की माउंटेन डिवीजन को हमले के लिए तैयार रखना होगा और इसके साथ ही, यह इस्लामाबाद को भी घेरने का काम कर सकती है। 
 
समुद्री युद्ध की स्थिति में भारतीय नौसेना को मकरान के समुद्री तट, ग्वादर पोर्ट को ध्यान में रखते हुए अपनी रणनीति बनानी होगी। पाकिस्तान के बंदरगाह शहर कराची पर भारतीय बख्तरबंद डिवीजनों और भारतीय लड़ाकू विमानों और अरब सागर में पनडुब्बियों को एक साथ मिलकर हमला करना होगा। इस हमले का उद्देश्य जहां पाकिस्तान में पंजाब और सिंध की सम्पर्क कड़ी को काट देना होगा। पाकिस्तान में यह लिंक एन 5 और एन 55 राजमार्गों के तौर पर जुड़ा है।
आगे जानिए क्या कहना है अमेरिकी विशेषज्ञों भारतीय सेना काी बारे में...  




और भी पढ़ें :