इंदौर में कोरोना के नए वैरिएंट की दस्तक,अगले सप्ताह मध्यप्रदेश में तीसरी लहर का पीक!

इंदौर में ओमिक्रोन के नए स्ट्रे बीए.2 BA.2 के नए केस

Author विकास सिंह| पुनः संशोधित सोमवार, 24 जनवरी 2022 (13:25 IST)
हमें फॉलो करें
भोपाल। मध्यप्रदेश अब कोरोना की तीसरी लहर की पीक की ओर बढ़ चला है। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 10 हजार 550 नए केस आए हैं। कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में आए प्रदेश में संक्रमण दर 13.09 फीसदी तक पहुंच गई है वहीं एक्टिव केसों की संख्या 69893 है। कोरोना की तीसरी लहर में प्रदेश में कोरोना के एक नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने कोरोना के हॉटस्पॉट में दस्तक दे दी है।



इंदौर में नए वैरिएंट की दस्तक- इंदौर में ओमिक्रोन के नए स्ट्रेन बीए.2

(BA.2) के नए केस सामने आए है। अब तक की रिपोर्टस के मुताबिक इंदौर में नए स्ट्रेन के 16 नए केस सामने आए है जिनमें छह बच्चे भी शामिल हैं। सिम्म अस्पताल के चेयरमैन डॉ विनोद भंडारी के मुताबिक नए वेरिएंट ओमीक्रोन BA.2 से संक्रमित चार मरीज ऐसे हैं जिनके फेफड़ों पर 15-40 फीसदी तक असर पड़ा है और इनमें एक बच्चा भी शामिल है।

इंदौर में मिले कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर भोपाल एम्स के पूर्व डायरेक्टर प्रोफेसर सरमन सिंह कहते हैं कि अब तक यूके में ही बहुत कम लोगों में मिला है, अभी इसके विषय में बहुत कुछ कहना मुश्किल होगा। इंदौर में ओमिक्रॉन के नए स्ट्रेन मिलने के सवाल पर कहते हैं कि जैसे-जैसे सीक्वेंसिंग होगी वैसे वैसे नए स्ट्रेन से संक्रमित लोगों की संख्या भी बढ़ेगी।

प्रोफेसर सरमन सिंह कहते हैं कि नया वैरिएंट ओमिक्रॉन की ही श्रेणी का है, या कहें उसी का जुड़वा भाई है। इसलिए इसके लक्षण भी ओमिक्रॉन जैसे ही है। बच्चों में इंफेक्शन पर कहते हें कि निश्चित तौर पर बच्चों में ओमिक्रॉन का संक्रमण अधिक हो रहा है।

मध्यप्रदेश में अगले सप्ताह कोरोना का पीक- 'वेबदुनिया' से बातचीत में एम्स दिल्ली माइक्रोबायोलॉजी डिपार्टमेंट के प्रमुख की जिम्मेदारी संभाल चुके प्रोफेसर सरमन सिंह कहते हैं कि मध्यप्रदेश में अगले सप्ताह कोरोना की पीक की उम्मीद कर सकते है। तीसरी लहर की पीक में मध्यप्रदेश में कितने केस होंगे इस सवाल पर सरमन सिंह कहते हैं कि अभी लोग टेस्ट के लिए आगे नहीं आ रहे है। संक्रमण की चपेट में आने वाले एंटीजन टेस्ट कर रहे है जबकि एंटीजन टेस्ट की सेंसेविटी 60-70 फीसदी है,वास्तव में अभी जो डेटा दिखाया जा रहा है उसकी तुलना में संक्रमितों की संख्या उससे 2 से 3 गुना अधिक होने की संभावना है।



और भी पढ़ें :