हां, इंसानों में मिला है कुत्तों का Coronavirus, चिंता की जरूरत नहीं

Last Updated: शनिवार, 29 मई 2021 (17:00 IST)
कैम्ब्रिज (यूके)। वैज्ञानिकों ने निमोनिया से पीड़ित कुछ लोगों में कुत्तों में पाए जाने वाले एक नई तरह के कोरोनावायरस का पता लगाया है। यह कहने-सुनने में भले खतरनाक लग सकता है, लेकिन इसका विश्लेषण करने के बाद लगता है कि इसकी वजह से आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है।
मलेशिया के सरवाक के एक अस्पताल में 8 लोगों में पाए जाने के बारे में अत्यधिक सम्मानित अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के एक समूह ने नैदानिक ​​​​संक्रामक रोगों से संबंधित विभाग को सूचित किया है। तो क्या इसका यह मतलब निकाला जाए कि कुत्ते इंसानों में कोरोनावायरस फैला सकते हैं?
सबसे पहले स्पष्ट करने वाली बात यह है कि कुत्तों का कोरोनावायरस क्या है? यह जान लेना महत्वपूर्ण होगा कि यह
सार्स-कोवी-2, जो वायरस कोविड-19 का कारण बनता है, से काफी अलग है। कोरोनावायरस परिवार को वायरस के 4 समूहों में विभाजित किया जा सकता है- अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा कोरोनावायरस।
सार्स-कोवी-2 बीटा कोरोनावायरस समूह में आता है, जबकि कुत्तों के कोरोनावायरस पूरी तरह से अलग अल्फा कोरोनावायरस समूह से हैं। लगभग 50 वर्षों से कुत्तों के कोरोनावायरस के बारे में जानते हैं। इस अवधि के अधिकांश समय में ये वायरस अपने एक अनजान अस्तित्व के साथ मौजूद रहे और केवल पशु चिकित्सक और कभी-कभी कुत्तों को पालने वाले लोग इनमें रुचि रखते थे।

इन वायरस के इंसानों को संक्रमित करने के बारे में पिछली कोई जानकारी नहीं है। लेकिन अब अचानक दुनिया में सब तरफ कोरोनावायरस पर सबकी नजर रहने से उन जगहों पर भी कोरोनावायरस की मौजूदगी के निशान मिल रहे हैं, जहां इन्हें पहले कभी नहीं देखा गया था। हाल ही में लोगों में पाया गया कि कुत्तों का कोरोनावायरस संक्रमण दरअसल इस दिशा में की जा रही गंभीर खोज का नतीजा था। जिन लोगों को इस खोज का हिस्सा बनाया गया था, वे काफी समय पहले ठीक हो चुके थे।
वैज्ञानिक विशेष रूप से सिर्फ कुत्तों के कोरोनावायरस की तलाश नहीं कर रहे थे। शोधकर्ता एक ऐसा परीक्षण विकसित करने की कोशिश कर रहे थे जो एक ही समय में सभी प्रकार के कोरोनावायरस का पता लगा सके- एक तथाकथित पैन-सीओवी परीक्षण। प्रयोगशालाओं में तैयार किए गए वायरस के नमूनों पर परीक्षण के काम करने की पुष्टि के बाद उन्होंने मलेशिया के एक अस्पताल में भर्ती रहे निमोनिया के 192 रोगियों के नमूनों पर इसका परीक्षण किया। इनमें से 9 नमूनों का परिणाम कोरोनावायरस के लिए पॉजिटिव आया।
इस संबंध में और करने पर पता चला कि उपरोक्त 9 नमूनों में से 5 सामान्य मानव कोरोनावायरस थे जिससे सर्दी-जुकाम हो सकता है। लेकिन आश्चर्यजनक रूप से 4 नमूने कुत्तों में पाए जाने वाले कोरोनावायरस के थे। इसी अस्पताल के मरीजों की और जांच करने पर 4 और पॉजिटिव मरीज सामने आए। कुत्तों में पाए जाने वाले कोरोनावायरसों के बारे में अधिक जानने के प्रयासों के तहत शोधकर्ताओं ने इन सभी 8 मलेशियाई
रोगियों के नाक और गले के नमूनों की जांच का अध्ययन किया।

यह जानने के लिए कि क्या कोई जीवित वायरस मौजूद है? प्रयोगशाला में इन नमूनों को कुत्ते की कोशिकाओं में डाला गया। एक ही नमूने से वायरस को अच्छी तरह से दोहराया गया और वायरस के कणों को इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोपी का उपयोग करके देखा जा सकता था। वैज्ञानिक वायरस के जीनोम को अनुक्रमित करने में भी सक्षम थे।

विश्लेषण में पाया गया कि कुत्तों में पाया जाने वाला कोरोनावायरस कुछ अलग अल्फाकोरोनावायरस, जिसमें सूअर और बिल्लियां भी शामिल थे, से निकटता से संबंधित था और यह भी पता चला कि इसे पहले कहीं और पहचाना नहीं गया था।

आगे फैलने का कोई सबूत नहीं: अब सवाल यह पैदा होता है कि क्या मरीजों में निमोनिया के लिए कुत्तों में पाया जाने वाला यह कोरोनावायरस जिम्मेदार था? फिलहाल हम इस सवाल का जवाब नहीं दे सकते। जांच का हिस्सा बनाए गए 8 में से 7 मरीज एकसाथ दूसरे वायरस से भी संक्रमित थे, जो या तो एडेनोवायरस, इन्फ्लूएंजा या पैरेनफ्लुएंजा वायरस था। हम जानते हैं कि ये सभी वायरस अपने आप में निमोनिया का कारण बन सकते हैं इसलिए इस बात की अधिक संभावना है कि ये बीमारी के लिए जिम्मेदार थे।
हम कह सकते हैं कि इन रोगियों में मिले निमोनिया का कुत्तों के कोरोनावायरस के साथ संबंध है, लेकिन यह नहीं कह सकते कि सिर्फ यह वायरस ही उनमें निमोनिया का कारण है। इस बात को लेकर आशंकाएं हैं कि मलेशिया के इन रोगियों में पाया गया कुत्तों का कोरोनावायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में
फैल सकता है और अगर ऐसा हुआ तो उसका नतीजा बड़े पैमाने पर बीमारी के प्रकोप के तौर पर सामने आएगा।


इस तथ्य को प्रमुखता से उठाने वाले यह स्पष्ट नहीं करते कि इंसानों में संक्रमण के ये मामले दरअसल 2017 और 2018 के हैं। ऐसे में इस स्रोत से कुत्तों के कोरोनावायरस के प्रकोप की संभावना और भी कम हो जाती है, क्योंकि बीच के 3 से 4 वर्षों में इसके आगे फैलने का कोई सबूत नहीं है।

यह ऐसा समय है, जब चारों तरफ कोरोनावायरस की बात हो रही है और इससे जुड़े तमाम तरह के वायरस की खोज की जा रही है और ऐसे में अप्रत्याशित स्थानों से कुछ और पॉजिटिव नमूने मिलने से इंकार नहीं किया जा सकता। लेकिन इनमें से अधिकांश केवल अध्ययन और जांच तक सीमित होंगे और इसके लिए चिंतित होने की जरूरत नहीं है। हालांकि यह महत्वपूर्ण है कि नए कोरोनवायरसों पर निगरानी जारी रहे और इसका विस्तार हो ताकि भविष्य में अगर कोई नई तरह का वायरस सामने आए तो हमारे पास उसे पहचानने का हरसंभव मौका हो। (द कन्वरसेशन)



और भी पढ़ें :