कोवैक्सीन के असर पर उठे सवाल और विवाद के बीच भारत बायोटेक का ऐलान- असर जांचने को करेगी चौथे फेज का ट्रायल

पुनः संशोधित गुरुवार, 10 जून 2021 (00:57 IST)
हैदराबाद। को अपने कोरोनावायरस (Coronavirus) टीके फेज-3 के डाटा को वैज्ञानिक पत्रिकाओं को दिए जाने के बाद 2 से 4 महीने में टीके के विशेषज्ञों द्वारा समीक्षा (पीयर रीव्यू) की उम्मीद है। भारत बॉयोटेक में कोविड-19 टीकों के परियोजना प्रमुख रेचेस इल्ला ने बुधवार को यह जानकारी दी।
कंपनी ने इस टीके का डाटा अब तक सार्वजनिक नहीं किया है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि अब तक कोवैक्सीन के नौ प्रकाशन हुए हैं और फेज-3 की प्रभावित के बारे में 10वां प्रकाशन होगा। इल्ला ने कहा कि निष्पक्ष बने रहने के लिए, भारत बायोटेक/आईसीएमआर कोई डाटा हासिल नहीं कर सकते।
ALSO READ:
नाखून कुछ बदले-बदले से लगें तो सावधान हो जाइए, कहीं की चपेट में तो नहीं
इल्ला ने कहा कि हमारे सेवा प्रदाता आईक्यूवीआईए ने अंतिम सांख्यिकीय विश्लेषण शुरू कर दिया है।सीडीएससीओ (जुलाई) को प्रभावशीलता और दो महीने की सेफ्टी सौंपने के बाद तुरंत प्री-प्रिंट सर्वर तक पहुंचने की उम्मीद है। पीयर रीव्यू में दो-चार महीने लगते हैं।

उनके ट्वीट के मुताबिक तीसरे चरण के परीक्षण में करीब 25,800 लोगों ने हिस्सा लिया। इसी बीच, भारत बॉयोटेक की संयुक्त प्रबंध निदेशक सुचित्रा इल्ला ने ट्विटर पर लिखा कि कोवैक्सीन करीब 28 शहरों के निजी अस्पतालों में पहुंच चुका है।



और भी पढ़ें :