WHO-AIIMS का सीरो सर्वे : कोरोना की तीसरी लहर को लेकर सामने आई बड़ी बात

Last Updated: गुरुवार, 17 जून 2021 (22:09 IST)
नई दिल्ली। भारत में की तीसरी लहर को लेकर आशंका जाहिर की जा रही है कि यह बच्चों को अधिक प्रभावित करेगी। हालांकि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) और ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (AIIMS) की तरफ से किए गए सीरो सर्वे के रिजल्ट राहत देने वाले हैं।
WHO-की तरफ से की गई सीरोप्रिवैलेंस स्टडी के अनुसार भारत में कोरोना की संभावित तीसरी लहर के दौरान वयस्कों के मुकाबले बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आशंका नहीं है।

यह सर्वे को 5 चुनिंदा राज्यों में 10 हजार लोगों पर किया गया। सर्वे में सामने आया कि वयस्कों के मुकाबले बच्चों में SARS-CoV-2 सीरो पॉजिटिविटी रेट ज्यादा है।
ALSO READ:
क्या भारत में Twitter, WhatsApp पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी में है सरकार?
हालांकि अभी सीरो सर्वे के अंतरिम नतीजे सामने आए हैं। देश के 4 राज्यों के 4,500 प्रतिभागियों के डेटा का इस्तेमाल किया गया। सर्वे जारी है और अंतिम नतीजे अगले 2 से 3 महीने में आ सकते हैं।
रिपोर्ट के मुताबिक 2 साल 17 साल की उम्र के 55.7 प्रतिशत बच्चों में कोरोना वायरस की एंटीबॉडी पाई गई है। वहीं, वयस्क आबादी में 63.5 लोगों में इस वायरस की एंटीबॉडी मिली। द्वारा किए जा रहे इस सर्वे में शहरी और ग्रामीण, दोनों इलाकों के लोगों को शामिल किया गया। इस सर्वे में पाया गया कि 10 साल से अधिक उम्र के बच्चे अधिक संक्रमित हुए हैं क्योंकि वे घरों से बाहर भी निकलते हैं।



और भी पढ़ें :