ज़ीरो: आनंद एल राय ने मुंबई में मेरठ बसाने के लिए की इतनी कड़ी मेहनत

बॉलीवुड के किंग खान की अपकमिंग फिल्म ज़ीरो का फैंस बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। फिल्म ज़ीरो के लिए न केवल कलाकारों ने बल्कि पुरी टीम ने कड़ी मेहनत की है। हाल ही में फिल्म के निर्देशक ने एक खुलासा किया है।
निर्देशक आनंद एल राय ने न सिर्फ मुंबई में एक अद्भुत सेट के साथ को रीक्रिएट किया है बल्कि छोटे शहर से स्थानीय लोगों को मुंबई बुलाया गया ताकि फिल्म में प्रामाणिकता बनाई जा सके। अपनी फिल्मों में एक जबरदस्त फील देने के लिए प्रसिद्ध फिल्म निर्माता ने सेट पर शहर का रंग जमाने के लिए विशेष रूप से मेरठ से 300 कलाकारों को मुम्बई बुलाया था।
फिल्म के निर्माताओं ने मुंबई शहर की फिल्मसिटी में एक विशाल सेट का निर्माण किया है जिसमें मेरठ शहर के प्रतिष्ठित घंटाघर और मेरठ की सड़कों को रीक्रिएट किया गया है। जबकि आनंद एल राय ने मेरठ शहर को दर्शाने के लिए जूनियर कलाकारों को यह जिम्मेदारी सौंपी थी लेकिन साथ ही निर्देशक ने मेरठ के स्थानीय कलाकरों को भी अपनी फिल्म से जोड़ा ताकि वह मेरठ शहर का असली सार फिल्म में दिखा सके।
फिल्म ज़ीरो में अहम भूमिका निभा रहे जीशान अय्यूब ने शाहरुख खान को मेरठ का हावभाव और बातचीत करने का तरीका अपनाने में बेहद मदद की है क्योंकि फिल्म में बउआ मेरठ शहर के निवासी है और जीशान असल जिंदगी में मेरठ शहर से तालुक रखते है। जीशान शाहरुख के साथ मेरठ की भाषा में ही बातचीत किया करते थे जिससे उन्हे यह भाषा जल्दी सीखने में मदद मिली।

आनंद एल राय इससे पहले अपनी फिल्म रांझणा और तनु वेड्स मनु में बनारस और कानपुर के छोटे शहरों को रीक्रिएट कर चुके हैं। फिल्म ज़ीरो में शाहरुख खान बौने बउआ, अनुष्का शर्मा एक लकवा पीड़ित वैज्ञानिक आफिया और कैटरीना कैफ बॉलीवुड सुपरस्टार बाबिता कुमारी की भूमिका में नजर आएंगी।



और भी पढ़ें :