'मॉर्निंग रागा' कॉन्सर्ट में मिले दो अद्भुत सितारे गुलजार और सरोद वादक उस्ताद अमजद अली खान, जानिए पूरी डिटेल

Last Updated: सोमवार, 2 मई 2022 (21:30 IST)
हमें फॉलो करें
रविवार 1 मई की सुबह और यादगार बन गई जब एक ही स्टेज पर दो अनमोल और अद्भुत सितारे उस्ताद और साहब मिले। भारत के लेजेंड और पद्म विभूषण उस्ताद अमजद अली खान का रविवार, 1 मई के दिन मुंबई के रॉयल ओपेरा हाउस में 'मॉर्निंग रागा' कॉन्सर्ट संपन्न हुआ।

दुनिया भर को अपनी सरोद साधना में सराबोर करनेवाले मशहूर कलाकार उस्ताद अमजद अली खान ने कोरोना काल के बाद 'मॉर्निंग रागा' कॉन्सर्ट में अपनी अद्भुत सरोद कला का प्रदर्शन किया। उस्ताद जी से मिलने और इस कॉन्सर्ट में सरोद घर से जुडी अपनी यादें बांटने आए, उनके बहुत ही खास और ऑस्कर विजेता जिन्होंने पूरे जहां में अपने कलम का जादू बिखेरा, गीतकार और डायरेक्टर गुलजार साहब।

जब ये दोनों एक स्टेज पर मिले मानों वो लम्हा सबसे खूबसूरत पल बन गया। बता दे कि रॉयल ओपेरा हाउस में किया गया उस्ताद अमजद अली खान का कॉन्सर्ट उनके ग्वालियर स्थित सरोद घर की विरासत की संगीतमय म्यूजियम के रख रखाव के लिए उठाई गई एक नेक कोशिश हैं।

सरोद घर जो ग्वालियर में स्थित हैं, जहा उनके वालिद साहब और फिर उस्ताद अमजद अली खान साहब का जन्म हुआ। एक ऐसा घर, जिसमे उनके पिता ने उन्हें क्लासिकल संगीत की तालीम दी जिसके वो धनी थे, जो खुद एक प्रख्यात सरोद वादक थे, और यही विरासत उन्होंने अपने बेटे उस्ताद अमजद अली खान को दी।
इस सरोद घर में उनके विरासत की ऐसी नायब चीज जो उन्होंने इस कॉन्सर्ट में दिखाई, ऐसे तमाम डॉक्यूमेंटेशन हैं जो प्राचीन समय से इक्कठा की गई, ऐसे तमाम लीजेंड की तस्वीरें हैं जो कें दरम्यान भी दिखाई गई। मॉर्निंग रागा कॉन्सर्ट में गुलजार साहब आए जिन्होंने संगीतमय विरासत की धरोहर सरोद घर के बारे में अपने अनुभव व्यक्त किए।
जिन्होंने उस्ताद जी के बारे में नायब शब्द बोले, और फिर इस कॉन्सर्ट की शुरुआत हुई। इसके पहले गुलजार, उस्ताद अमजद अली खान साहब और सरोद घर पर 1 घंटे की डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी बना चुके हैं। यू कहे की उस्ताद खान साहब मुंबई में मौजूद हो और गुलजार जी उनसे न मिले, ऐसा तों हो ही नही सकता।

मॉर्निंग रागा कॉन्सर्ट का उद्देश्य, ग्वालियर स्थित सरोद घर यानी की म्यूजिकल हेरिटेज म्यूजियम के रख रखाव के लिए की गई हैं। मॉर्निंग रागा में खास मेहमान बनकर आए गुलजार साहब, इसके अलावा उस्ताद अमजद अली खान की धर्मपत्नी शुभलक्ष्मी खान, बेटे अयान अली बंगश, उनकी पत्नी नीमा, दोनों पोते अबीर और जोहान अली बंगश और रोमेश शर्मा मौजूद थे। इस कॉन्सर्ट का ये भी एक ध्येय था कि आनेवाली युवा पीढ़ी में क्लासिकल संगीत का जोश भरा जाए और उन्हें इस संगीत की ट्रेनिंग के लिए जागरूक कराया जाए।



और भी पढ़ें :