सिनेमाघर खुले पर दर्शक गायब, फिल्म उद्योग की हालत खस्ता

खुलने की इजाजत मिल चुकी है, इसके बावजूद हर शहर में गिने-चुने सिनेमाघर खुले हैं। मल्टीप्लेक्स में एक या दो स्क्रीन ही चालू किए गए हैं जिनमें महज दो या तीन शो प्रतिदिन दिखाए जा रहे हैं। सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर वाले तो हिम्मत ही नहीं जुटा पा रहे हैं कि महीनों से लटके ताले को खोला जाए।


दरअसल कोई फिल्म ही दिखाने को नहीं है। नई फिल्म तो देखने आते नहीं, तो भला पुरानी फिल्में कौन देखेगा? जो शो चल रहे हैं उनमें गिनती के दर्शक फिल्म देखने पहुंच रहे हैं। इतने में तो सिनेमाघर के बिजली का खर्चा भी नहीं निकलता। फिल्म उद्योग वालों की हालत खस्ता है। बड़े निर्माता अपनी फिल्म तभी रिलीज करना चाहते हैं जब पूरी कैपिसटी के साथ फिल्म दिखाने की इजाजत मिले। फिलहाल जो हालात है उसे देखते हुए तो इस दो-तीन महीने इस बात के आसार नहीं हैं। तब तक सिनेमाघर वाले जूझते रहेंगे।

क्या दर्शक सिनेमाघर आने से डर रहे हैं? इसका जवाब तो तभी पता चलेगा जब बड़ी या नामी स्टार की कोई फिल्म रिलीज होगी। यदि उसे दर्शक नहीं मिलेंगे तो जवाब मिल जाएगा कि कोरोना का डर कायम है। फिलहाल तो अनुमान ही लगाया जा सकता है।


सैनिटाइजेशन और सरकार की गाइडलाइडन को फॉलो करना हर किसी के बस की बात नहीं है। कई सिनेमाघरों की आमदनी बहुत कम है ऐसे में वे नए खर्चे का भार नहीं उठा सकते। अभी तो सिनेमाघर वेंटिलेटर पर हैं। खोलने के नाम पर ही दरवाजे खोल दिए हैं।



और भी पढ़ें :