दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे - 100 वर्षों की सबसे पसंदीदा फिल्म

दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे
PR


भारतीय फिल्म उद्योग के 100 वर्ष पूरे होने के अवसर पर ऑनलाइन मतदान में सिनेप्रेमियों ने फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स, ई-मेल और मूवी पोर्टल के जरिए अपना मत दिया। शाहरख खान और की मुख्य भूमिकाओं वाली सफल रोमांटिक कॉमेडी डीडीएलजे को 47 प्रतिशत मत मिले।

के महान फिल्मकार यश चोपड़ा के बेटे आदित्य चोपड़ा के निर्देशन में बनी यह फिल्म राज कपूर की ‘आवारा’ (1951), महबूब खान की ‘मदर इंडिया’ (1957) और रमेश सिप्पी की ‘शोले’ (1975) जैसी 10 सदाबहार और बेहतरीन फिल्मों को पछाड़कर सबसे पसंदीदा फिल्म बनी है।

इंग्लैंड, स्विट्जरलैंड और भारत में फिल्माई गई इस फिल्म को सदाबहार सफलतम फिल्म घोषित किया गया है। यह फिल्म मुंबई के मराठा मंदिर थियेटर में 900 से अधिक सप्ताह से अभी भी चल रही है और फिल्म ने भारतीय सिनेमा में सबसे अधिक समय तक थियेटर में दिखाए जाने का इतिहास बनाया।

भाषा|

सिनेप्रेमियों ने दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे (डीडीएलजे) को भारतीय सिनेमा के पिछले 100 वर्षों के इतिहास की सबसे पसंदीदा फीचर फिल्म चुना है। भारतीय फिल्मों के लिए इंग्लैंड की सबसे बड़ी पे पर व्यू (पीपीवी) सेवा प्रदाता सोनाना ने एक ऑनलाइन मतदान आयोजित किया था जिसमें सिनेप्रेमियों ने डीडीएलजे को सबसे पसंदीदा फिल्म चुना।

सोनाना की सीएमओ शाजिया निजाम ने कहा कि डीडीएलजे की लोकप्रियता को देखते हुए उन्हें इस फिल्म के सबसे पसंदीदा फिल्म चुने जाने पर हैरानी नहीं हुई।(भाषा)



और भी पढ़ें :