0

सलमान-सनी-अजय और अक्षय... एक्शन का धमाल : टॉप 10 एक्शन हीरो

बुधवार,अप्रैल 15, 2020
0
1
हिंदी फिल्मों के इतिहास में कई खूबसूरत हीरोइनों के चेहरे सिल्वर स्क्रीन पर नजर आए। लंबी बहस हो सकती है कि कौन सबसे सुंदर है। सबके पास अपने-अपने तर्क हैं। हम चर्चा करते हैं उन सुंदर चेहरों की जिन्होंने अपने सौंदर्य से सिने प्रेमियों का मन मोहा है।
1
2
बॉलीवुड फिल्मों के बॉक्स ऑफिस के आंकड़ों पर कभी भी सौ प्रतिशत यकीन नहीं किया जा सकता है। पिछले दस वर्षों से पारदर्शिता आई है, हालांकि अभी भी पूरी तरह से सही आंकड़े प्रस्तुत नहीं किए जाते हैं और कुछ ट्रेड मैग्जीन अपने-अपने हिसाब से फिल्मों के व्यवसाय ...
2
3
सिनेप्रेमियों ने दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे (डीडीएलजे) को भारतीय सिनेमा के पिछले 100 वर्षों के इतिहास की सबसे पसंदीदा फीचर फिल्म चुना है। भारतीय फिल्मों के लिए इंग्लैंड की सबसे बड़ी पे पर व्यू (पीपीवी) सेवा प्रदाता सोनाना ने एक ऑनलाइन मतदान आयोजित ...
3
4
भारतीय सिनेमा के सौ साल के इतिहास में अनेक कलाकार ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपढने अभिनय से लोगों का भरपूर मनोरंजन किया है। अमिताभ बच्चन और दिलीप कुमार को छोड़ बाकी कलाकार भले ही स्टार नहीं बन पाए हों या उनके नाम पर फिल्में नहीं बिकती हों, लेकिन इन्होंने ...
4
4
5
भारतीय सिनेमा के सौ साल के इतिहास में अनेक ऐसे कलाकार हुए हैं जिन्होंने सीधे जनता के दिलों में अपनी जगह बनाई। उनका नाम देख लोग टिकट खरीद लेते हैं। ये सही मायनों में स्टार हैं। भले ही उनके अभिनय में विविधता नहीं हो, लेकिन उनके जादुई अंदाज के लोग ...
5
6
भारत में सिनेमा संयोगवश आया। लुमियर ब्रदर्स ने अपने आविष्कार से दुनिया को चमत्कृत तो किया ही, साथ ही उन्होंने पूरी दुनिया में उसे जल्दी से जल्दी पहुंचाने का भी प्रयत्न भी किया। उन्होंने अपने एजेंट के जरिए ऑस्ट्रेलिया के लिए फिल्म पैकेज रवाना किया। ...
6
7
दादा वेश्याओं के बाजार में उनके कोठे पर गए। हाथ जोड़कर उनसे तारामती रोल के लिए निवेदन किया। वेश्याओं ने दादा को टका-सा जवाब दिया कि उनका पेशा, फिल्म में काम करने वाली बाई से ज्यादा बेहतर है। फिल्म में काम करना घटिया बात है। दादा निराश तथा हताश होकर ...
7
8
धुण्डीराज गोविंद फालके का जन्म 30 अप्रैल 1870 को नासिक जिले के त्र्यम्बकेश्वर गांव में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। परिवार की परंपरा के अनुसार उन्हें घर पर ही संस्कृत और पुरोहिताई की शिक्षा दी गई। उनकी रुचि चित्रकला, नाट्य, अभिनय और जादूगरी मे ...
8
8
9
प्रथम भारतीय बोलती फिल्म : 'आलम आरा' आर्देशिर ईरानी द्वारा निर्मित। 14 मार्च, 1931 को बंबई के मैजेस्टिक सिनेमा में प्रदर्शित। प्रथम 70 एमएम टेक्नीकलर फिल्म : अराउंड द वर्ल्ड (1967) पाछी द्वारा निर्मित। प्रथम एक ही अभिनेता द्वारा अभिनीत ‍फीचर फिल्म : ...
9