लाल किताब राशिफल 2021 : कुंभ राशि के लिए कैसा रहेगा अगला वर्ष

kumbh rashifal 2021 in lal kitab
वर्ष 2020 तो दुनियाभर के लोगों को दुख करने वाला सिद्ध हुआ, परंतु अब लोगों को नए वर्ष से बहुत आशा है। हालात सामान्य होंगे और लोग फिर से पहले की तरह जीने लगेंगे। उम्मीदों से भरे इस वर्ष में लाल किताब के अनुसार किस राशि के लिए कैसा रहेगा यह वर्ष इस बारे में बहुत ही संक्षिप्त रूप से जानिए कुंभ राशि के बारे में।

कुंभ राशि :
1. कुंभ राशि के जातकों के लिए वर्ष 2021 कई संभावनाओं से भरा वर्ष होगा। इस वर्ष के प्रारंभ में आपको सेहत और कार्यक्षेत्र संबंधी कई चुनौतियों का भी सामना करना पड़ सकता है। आप अपनी सेहत का विशेष ध्यान रखें, डॉक्टर से सलाह लें और कार्यक्षेत्र में जिम्मेदारी और गंभीरता कार्य करें।

2. यदि सेहत का ध्यान रखा और कार्यक्षेत्र में पराक्रम दिखाया तो अप्रैल से सितंबर के दौरान परिस्थितियों में कुछ सकारात्मक परिवर्तन आएगा, जिसके चलते आर्थिक स्थिति भी मजबूत बनेगी। जो लोग राजनीति या वकालात से जुड़े हैं उनके लिए यह समय उत्तम रहेगा।
3. यात्रा के लिहाज से अप्रैल से मई के मध्य का समय सबसे उत्तम होगा। नौकरीपेशा और व्यापारी दोनों ही के लिए यात्राएं लाभदायक सिद्ध होगी। वहन खरीदना या घर की मरम्मत कराने के लिए भी यह समय उत्तम है। घर में नया मेहमान के आगमन की संभावना भी प्रबल है।
4.छातों के लिए मई से जुलाई के मध्य का समय उत्तम रहेगा। यदि प्रयास किए तो सफलता प्राप्त करने में कठिनाई नहीं होगी। अविवाहित जातकों के लिए भी विवाह प्रस्ताव आएंगे।

5. सितंबर और अक्टूबर के दौरान जब भाग्य आपका साथ देगा तो उन्नति के मार्ग खुलेंगे और सभी मनोकामनाएं पूर्ण होगी। कार्यक्षेत्र में नवंबर का माह सबसे अधिक उत्तम रहेगा। इस दौरान पारिवारिक जीवन में भी मेलजोल बढ़ेगा इससे आपका मानसिक तनाव दूर होगा।
6. वर्ष का अंतिम माह दिसंबर नौकरीपेशा और व्यापारियों के लिए उत्तम हैं। मेहतन रंग लाएगी और सभी समस्याओं से निजात मिलेगी। यदि आप अभी तक बेरोज़गार हैं और नौकरी की तलाश कर रहे थे, तो आपको कोई शुभ समाचार मिल सकता है। कुल मिलाकर कहें तो, यह वर्ष कुंभ राशि के लिए सामान्य से बेहतर रहेगा।
7. इस वर्ष को और भी बेहतर बनाने के लिए आप केवल चांदी के बर्तन में खाना खाएं और तांबें के गिलास का पानी पीएं। अपने शयनकक्ष में सजावट की कोई भी वस्तु ना रखें। मांस मदिरा से दूर रहें। किसी धार्मिक स्थल पर कभी कभार झाड़ू लगाएं। शनिवार के दिन छायादान करें और झूठ ना बोलें।



और भी पढ़ें :