माँ देती है उपहार में खुशियाँ

माँ-बेटी का रिश्ता सबसे प्यारा

माँ बेटी
NDND
जब एक किसी बच्चे को अपनी कोख से जन्म देती है तो उसके साथ उसका आत्मीय रिश्ता जुड़ जाता है। कहा जाता है कि ईश्वर ने औरत को दर्द सहने के लिए व प्यार, तथा ममता लुटाने के लिए बनाया है।

औरत की मोम सी यह सुंदर काया जीवन भर न जाने कितनी शारीरिक व मानसिक दु:ख-तकलीफें सहती है परंतु फिर भी उसके लबों पर ‍कोई शिकवा या शिकायत नहीं होती है।

औरत अपनी यह खूबी अपनी कन्या को विरासत में देती है। यह सत्य है कि एक माँ, पिता की बजाय बेहतर तरीके से अपनी बेटी की हर परेशानी को समझ सकती है। यही कारण है कि माँ-बेटी का रिश्ता सबसे करीबी व आत्मीय रिश्ता माना जाता है।

  एक औरत ही औरत को बखूबी समझ सकती है। माँ हमेशा यह चाहती है कि उसकी बेटी जहाँ भी रहे, सुखी रहे। अपनी इसी चाह को पूरा करने के लिए न जाने वह कितने त्याग करके अपनी बेटी की बिदाई में उसके आँचल में खुशियाँ उपहार स्वरूप देती है।      
यह रिश्ता किसी औपचारिकता या आडंबर का मोहताज नहीं होता। माँ-बेटी दोनों एक-दूसरे से इस कदर आत्मीयता व संवेदना के तारों से जुड़े होते हैं कि बेटी की हर तकलीफ में माँ के व माँ के हर में बेटी के आँसू स्वत: ही निकल जाते हैं।

कहते हैं दूरियाँ दिलों को पाटती हैं परंतु माँ-बेटी के रिश्ते में ऐसा नहीं होता है। इस रिश्ते में तो दूरियाँ रिश्तों को और अधिक प्रगाढ़ करती है। विवाह के बाद भी बेटी का माँ के प्रति लगाव कम नहीं होता है बल्कि और अधिक बढ़ जाता है।

एक औरत ही औरत को बखूबी समझ सकती है। माँ हमेशा यह चाहती है कि उसकी बेटी जहाँ भी रहे, सुखी रहे। अपनी इसी चाह को पूरा करने के लिए न जाने वह कितने त्याग करके अपनी बेटी की बिदाई में उसके आँचल में खुशियाँ उपहार स्वरूप देती है।

गायत्री शर्मा|
सदियों से की मिसाल बनता आया माँ-बेटी का यह पाक रिश्ता हमेशा यूँ ही कायम रहे तथा हर माँ का अपनी लाडली बेटी पर प्यार हमेशा बरसता रहे। हमारी यही आशा है



और भी पढ़ें :