प्रवासी साहित्य : प्रार्थना

- अनिल के. प्रसाद

GN


पहले भी ऋषियों के
हिमालय जाकर तपस्या
करने की कहानियां

हमने बड़ों से सुनी थी

जो घर-संसार त्यागकर
अपने आध्यात्मिक ज्ञान-धनको पाने के लिए हिमालय
की कंदराओं में जा बसते थे

हम भी तो आज जहरातेखलीज
की इन गुफाओं में उन्हीं साधुओं
की तरह साधना में लीन हैं
घर-संसार त्यागकर

मौनव्रती आत्मलीन हैं हम
तुम्हारे नाम की माला भीफेरने की आदत है हमें
जो हमारे गृहस्थ जीवन की देन है
सोते-जागते दिनारों की मीनारों को
देखते रहते हैं, नापते रहते हैं
उनकी ऊंचाइयों को,
क्या हिमालय की चोटियों से भी
ऊंचा चढ़ पाएंगे हम?



और भी पढ़ें :