नरेंद्र मोदी का संभावित मंत्रिमंडल, बैठकें तेज

नई दिल्ली| भाषा|
हमें फॉलो करें
FILE
नई दिल्ली। नरेन्द्र मोदी की अगुआई में भारी जीत के बाद अब भाजपा में नए मंत्रिमंडल को लेकर बैठकों का सिलसिला तेज हो गया है। मंगवलार को भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक होनी हैं। इसके पहले रविवार को पार्टी के बड़े नेताओं की के साथ कई दौर की चर्चाएं हुईं।


राजनाथ ने ‍दिल्ली बुलाया नेताओं को : आज भारतीय जनता पार्टी में मंत्रिमंडल को लेकर मंथन चल रहा है। राजनाथ सिंह के घर उमा भारती, नजमा हेपतुल्लाह, अनुप्रिया पटेल, वरुण गांधी, सुषमा स्वराज, जगदम्बिका पाल, शाह नवाज हुसैन और सत्यपाल सिंह मिलने पहुंचे।

गुजरात भवन में बैठक : दिल्ली स्थित गुजरात भवन में नरेंद्र मोदी से मिलने अरुण जेटली और अमित शाह पहुंचे। गुजरात भवन में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं के साथ मिलकर मोदी नए मंत्रिमंडल का खाका तैयार करेंगे। नई सरकार में किसकी क्या भूमिका होगी, इस पर संघ की भी राय ली जा सकती है, हालांकि संघ ने कहा है कि कैबिनेट गठन में उनकी कोई भूमिका नहीं होगी। इससे पहले रविवार को पूरे दिन मोदी और बीजेपी नेताओं के बीच मुलाकातों का दौर जारी रहा। इस क्रम में एलजेपी नेता रामविलास पासवान और उनके बेटे चिराग पासवान ने भी मोदी से मुलाकात की। पार्टी के बड़े नेताकों से उनकी मुलाकात का सिलसिला लगातार जारी है, वहीं गुजरात में नए मुख्यमंत्री को लेकर भी हलचलें तेज हैं।

संभावित मंत्रिमंडल : इससे पहले भाजपा महासचिव राम लाल, अरुण जेटली, राजनाथ सिंह और अमित शाह के बीच मंत्रिमंडल गठन पर काफी देर बातचीत हुई। माना जा रहा है कि नरेन्द्र मोदी नई सरकार में अमित शाह की बड़ी भूमिका चाहते हैं। हालांकि सूत्रों अनुसार शाह को राष्ट्रीय अध्यक्ष भी बनाया जा सकता है। इसके पहले नरेंद्र मोदी ने लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी से मुलाकात की। पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह पर भी सरकार में शामिल होने का दबाव बन रहा है।

सूत्रों के मुताबिक अगर राजनाथ सरकार में शामिल होते हैं तो उन्हें गृह मंत्रालय मिल सकता है। एक और वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज को रक्षा मंत्रालय मिलने की उम्मीद की जा रही है। वित्त मंत्रालय अरुण जेटली या अरुण शौरी या फिर किसी विशेषज्ञ के पास जा सकता है। रविशंकर प्रसाद को विदेश मंत्री बनाया जा सकता है तो वैंकया नायडू को ग्रामीण मंत्रायल। मुरलीमनोहर जोशी कृषि मंत्री और हर्षवर्धन को स्वास्थ्य मंत्री बनाया जा सकता है।
पूर्व थल सेनाध्यक्ष जनरल वी के सिंह को रक्षा राज्य मंत्री बनाया जा सकता है, तो नितिन गडकरी को इंफ्रास्ट्रक्चर या रेल मंत्रालय मिल सकता है। हालांकि सूत्रों का कहना है कि नितिन गडकरी गृह मंत्रालय चाहते हैं। सूत्रों का कहना है कि लालकृष्ण आडवाणी लोकसभा स्पीकर बनने की इच्छा जता चुके हैं।

मोदी के मंत्रिमंडल में ये लोग होंगे: राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, रविशंकर प्रसाद, नितिन गडकरी, वैंकया नायडू, स्मृति ईरानी, रामविलास पासवान, रामपाल यादव, उमा भारती, मुरली मनोहर जोशी, येदियुरप्पा, जनरल वीके सिंह, मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर सत्यपाल सिंह आदि।



और भी पढ़ें :