हिंदी अखबार के पाठक नहीं पसंद कर रहे हैं अंग्रेजी शब्द

वार्ता

हिन्दी समाचार
FILE
दैनिक भास्कर और हिंदुस्तान के 70 -70 प्रतिशत, अमर उजाला के 69 प्रतिशत और दैनिक जागरण के 65 प्रतिशत पाठकों का मानना है कि अंग्रेजी के शब्द समाचारों को बोझिल बनाते हैं।

इन अखबारों के गांव में पढ़े जाने वाले जिला स्तर के विशेष स्थानीय खबरों में इस्तेमाल कुछ अंग्रेजी शब्दों की बानगी इस प्रकार है -फंड सेफ्टी ऑफिसर, मीडिया, रेसिंग सीन, इनोवटर्स इन हेल्थ, डल्फिन टेल, रेड जोन, नार्थ जोन कोआर्डिनेटर, कांप्रिहेंसिव ड्रेस, अर्ली मॉर्निंग, अनप्लग, एडआन, कंटेंप्ट टू कोर्ट, बियोंड टाइम और आइडेंटिफिकेशन डाक्यूमेंट।

FILE
सर्वेक्षण के अनुसार सभी अखबारों के अंतरराष्ट्रीय और राष्ट्रीय पृष्ठों में अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल कम है इसलिए वे ज्यादा पठनीय है लेकिन गांवों में पढ़े जाने वाले इन अखबारों के जिला स्तर पर निकलने वाले स्थानीय पृष्ठों और सिनेमा एवं मनोरंजन जैसे फीचर खबरों में अंग्रेजी शब्दों का धड़ल्ले से इस्तेमाल हो रहा है। अधिकांश समाचार पत्रों के यह भी मानते हैं कि हिंदी अखबारों में अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल फैशन बन गया है।

वार्ता|
देश में सबसे ज्यादा पढे जाने वाले प्रमुख हिंदी अखबारों के पाठकों को धडल्ले से इस्तेमाल हो रहे अंग्रेजी शब्दों का इस्तेमाल पसंद नहीं आ रहा है। जन मीडिया.पत्रिका की ओर से करवाए गए सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है। इंडियन रीडर सर्वे की के आधार पर चार सबसे अधिक प्रसार वाले हिंदी पत्रों के पाठकों का मानना है कि अंग्रेजी के शब्द समाचार को बोझिल बनाते हैं और पढ़ने में रूकावट पैदा करते हैं।
अक्टूबर 2011 से फरवरी 2012के बीच सभी दैनिक अखबारों के 30-30 अंकों के 1216 समाचारों के अंतर्वस्तु विश्लेषण किया गया तथा अंग्रेजी शब्दों के बारे में 400 पाठकों की राय ली गई।


और भी पढ़ें :