राजकोषीय घाटा 5% रहने का अनुमान

नई दिल्ली| भाषा| पुनः संशोधित सोमवार, 12 जुलाई 2010 (20:38 IST)
तेज और कार्यक्रम से सरकार को चालू वित्त वर्ष में अपना राजकोषीय घाटा कम कर जीडीपी के 5 प्रतिशत के स्तर पर लाने में मदद मिलेगी।

अनुसंधान फर्म नोमुरा ने कहा कि हम चालू वित्त वर्ष में केन्द्र सरकार के लिए राजकोषीय घाटे का अनुमान घटाकर जीडीपी का 5 प्रतिशत कर रहे हैं। इससे पहले राजकोषीय घाटा जीडीपी का छह प्रतिशत रहने का अनुमान व्यक्त किया गया था।

नोमुरा ने कहा कि तेज आर्थिक वृद्धि दर और विनिवेश कार्यक्रमों से अच्छा लाभ मिलने से राजकोषीय घाटे में हमारे अनुमान के मुकाबले उल्लेखनीय कमी आई है। सरकार चालू वित्त वर्ष में विनिवेश कार्यक्रमों से 40000 करोड़ रुपए जुटाने की संभावना तलाश रही है। वहीं सरकार थ्रीजी और ब्रॉडबैंड वायरलेस सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम की बिक्री से पहले ही 1.06 लाख करोड़ रुपए जुटा चुकी है। (भाषा)



और भी पढ़ें :