प्रवासी भारतीय बैंकर को उम्रकैद की सजा

लंदन| भाषा| पुनः संशोधित शुक्रवार, 24 जनवरी 2014 (23:34 IST)
FILE
लंदन। ब्रिटेन की एक ने गला घोंटकर पत्नी की हत्या करने के दोष में भारतीय मूल के एक बैंकर को की सजा सुनाई है।


मोर्गन स्टैनली में प्रोडक्ट कंट्रोलर के पद पर कार्यरत मानस कपूर को जुआ खेलने की लत लग गई थी और उसे डर था कि लाखों पाउंड के घपले के कारण बैंक नौकरी से निकाल देगा।

घपले के मामले में अनुशासनात्मक सुनवाई के दिन पत्नी शिवानी (35) से झगड़ा होने पर 35 वर्षीय कपूर ने गुस्से में उसकी हत्या कर दी। मूल रूप से दिल्ली का रहने वाला यह जोड़ा विवाह के बाद ब्रिटेन आया था। शिवानी बच्चों की डॉक्टर थी।

स्कॉटलैंड यार्ड के ‘होमीसाइड एण्ड मेजर क्राइम कमांड’ के डिटेक्टिव निरीक्षक सिमोन पिकफोर्ड ने बताया, ‘मानस कपूर कार्यालय और घर दोनों की ओर से बहुत ज्यादा दबाव में था। वह जुए का आदि था और भारी कर्ज में डूबा हुआ था।


उसने पुलिस पूछताछ के दौरान माना कि उसके लिए अपने तनाव को झेल पाना मुश्किल हो गया था। ज्यूरी अभियोजन पक्ष की इस दलील से इत्तेफाक रखती है कि उसने तमाम तनावों के बीच गुस्से में अपनी पत्नी की चाकू मारकर और गला घोंटकर हत्या कर दी।’
ज्यूरी ने कहा, ‘हमारी सहानुभूति शिवानी के परिवार और 18 महीने के बच्चे के साथ है जिन्होंने एक प्यारी बेटी और मां खोया है।’

अभियोजक ने कल अदालत को बताया था कि कपूर ने हत्या को छुपाने का प्रयास करते हुए कहा था कि उसकी पत्नी स्टूल से गिर गई थी, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत की असली वजह का पता चल ही गया। कपूर को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है और उसे कम से कम 16 वर्ष जेल में रहना होगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :