हिन्दी निबंध : नारी का सम्मान

- रवीन्द्र गुप्ता

FILE


नारी का सम्मान सदा होना चाहिए। संस्कृत में एक श्लोक है- 'यस्य पूज्यंते नार्यस्तु तत्र रमन्ते देवता: (भावार्थ- जहां नारी की पूजा होती है, वहां देवता निवास करते हैं।) किंतु आज हम देखते हैं कि नारी का हर जगह अपमान होता चला जा रहा है। उसे 'भोग की वस्तु' समझकर आदमी 'अपने तरीके' से 'इस्तेमाल' कर रहा है।

यह बेहद चिंताजनक बात है। आइए देखते हैं हम नारी का कैसे सम्मान करें।




और भी पढ़ें :