विश्व हिन्दी सम्मेलन : वेबदुनिया के स्टॉल पर अशोक चक्रधर ने ली 'सेल्फी'

Last Updated: शुक्रवार, 11 सितम्बर 2015 (20:56 IST)
भोपाल। तीन दिवसीय 10वें विश्व हिन्दी सम्मेलन में दुनिया के पहले हिन्दी पोर्टल 'वेबदुनिया' का स्टॉल आज दूसरे दिन भी देशी और विदेशी मेहमानों के लिए आकर्षण का केंद्र बना रहा। स्टॉल पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह अपनी पत्नी साधना सिंह के साथ आए और प्रदर्शनी देखकर काफी प्रभावित हुए। ख्यात कवि और साहित्यकार भी पत्नी के साथ आए जबकि सोशल मीडिया में जाना पहचाना नाम रवि रतलामी भी वेबदुनिया की प्रदर्शनी देखकर प्रभावित हुए बिना नहीं रहे। 
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने पूरी गंभीरता के साथ पर लगी प्रदर्शनी का अवलोकन किया और वहां मौजूद प्रतिनिधियों को बधाई दी। वेबदुनिया की तरफ से मुख्यमंत्री को संपूर्ण सामग्री की पेनड्राइव भेंट की। पेनड्राइव पाकर शिवराज सिंह काफी खुश नजर आए। उन्होंने कहा कि वे इसे जरूर देखेंगे।
देश के सुपरिचित कवि और साहित्यकार अशोक चक्रधर अपनी पत्नी के साथ वेबदुनिया के स्टॉल पर पहुंचे और वहां पर उन्होंने 'सेल्फी' भी ताकि यह याद हमेशा उनके पास सहेजकर रखी जा सके। अशोक चक्रधर भी काफी देर तक रहे और अपने अनुभव साझा करते रहे। 
 
शुक्रवार के दिन विश्व हिन्दी सम्मेलन में अपनी महती भागीदारी निभा रहे विश्व के पहले हिन्दी पोर्टल के स्टॉल पर प्रदर्शनी देखने वालों का तांता लगा रहा। राजनेताओं से लेकर साहित्यकार और बड़ी संख्या में युवा यहां पहुंचे। 
मुख्यमंत्री और अशोक चक्रधर के अलावा वेबदुनिया के स्टॉल पर पहुंचने वालों में प्रमुख रहे गोवा की राज्यपाल श्रीमती मृदुला सिन्हा, भोपाल के सांसद आलोक संजर, पूर्व सांसद सत्यनारायण जटिया, ब्लॉगर रवि रतलामी, नेशनल बुक स्टाल के सहायक संपादक पंकज चतुर्वेदी, ख्यात साहित्यकार चित्रा मुद्‍गल भगवत शरण माथुर तथा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के ओएसडी विनोद टंडन।
स्थानीय लोगों में भी वेबदुनिया की प्रदर्शनी विशेष आकर्षण का केंद्र रही। यही नहीं, जापान और दक्षिण कोरिया के छात्रों ने भी प्रदर्शनी देखने में काफी गंभीरता दिखाई। 
 
उल्लेखनीय है कि विश्व हिन्दी सम्मेलन की महत्ता को देखते हुए वेबदुनिया ने अपनी पूरी टीम लगा रखी है जो देशी-विदेशी मेहमानों को छोटी से छोटी जानकारी उपलब्ध करवा रही है। 
अब तक वेबदुनिया के स्टॉल पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, विदेश राज्यमंत्री तथा पूर्व जनरल वीके सिंह, केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला, जनसत्ता के पूर्व संपादक व वरिष्ठ साहित्यकार राहुल देव, राज्यसभा सांसद अनिल माधव दवे, मप्र के कैबिनेट मंत्री नरोत्तम मिश्र, माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कुलपति बीके कुठियाला आ चुके हैं। 



और भी पढ़ें :