बंगाल में 5 उम्मीदवार Corona संक्रमित, ममता ने कहा- भाजपा जिम्मेदार

पुनः संशोधित शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021 (18:26 IST)
कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव लड़ रहे अलग-अलग दलों के कम से कम 5 उम्मीदवार कोरोनावायरस (Coronavirus) से संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने शुक्रवार को इस बारे में बताया।
उन्होंने बताया कि संक्रमित पाए गए 5 उम्मीदवारों में से तीन तृणमूल कांग्रेस के और एक-एक उम्मीदवार रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी (आरएसपी) और भाजपा के हैं। अधिकारी ने बताया कि जंगीपुर से आरएसपी के उम्मीदवार प्रदीप कुमार नंदी (73) बुधवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए और अभी वह घर पर पृथकवास में हैं।

अधिकारी ने बताया कि माटीगाड़ा-नक्सलबाड़ी सीट से भाजपा के उम्मीदवार आनंदमय बर्मन (38), तृणमूल कांग्रेस के गोलपोखर से उम्मीदवार मोहम्मद गुलाम रब्बानी, तापन से उम्मीदवार कल्पना किसकू और जलपाईगुड़ी से उम्मीदवार डॉ. प्रदीप कुमार बर्मा कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।
निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी के मुताबिक, संक्रमित पाए गए उम्मीदवारों को तुरंत प्रचार रोक देना चाहिए। या तो उन्हें अपने घर पर पृथकवास में रहना चाहिए या संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल में भर्ती होना चाहिए। मुर्शिदाबाद विधानसभा क्षेत्र में कांग्रेस के प्रत्याशी रिजाउल हक कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे। बृहस्पतिवार को तड़के रिजाउल हक का निधन हो गया।

भाजपा जिम्मेदार : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रदेश में कोविड-19 के बढ़ते मामलों के लिए सीधे भगवा दल को जिम्मेदार ठहराते हुए शुक्रवार को कहा कि वह निर्वाचन आयोग से कहेंगी कि वह भाजपा को प्रचार के दौरान 'बाहरी लोगों' को लाने से रोके।
नादिया जिले में यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए बनर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनावी रैलियों के लिए शामियाने लगवाने के लिए भाजपा 'सबसे बुरी तरह प्रभावित' गुजरात जैसे राज्यों से लोगों को लेकर आई। उन्होंने कहा कि मैं निर्वाचन आयोग से अनुरोध करूंगी कि वह गुजरात जैसे राज्यों से आने वाले बाहरी लोगों को रोके जो बंगाल में कोविड-19 के प्रसार के लिए जिम्मेदार हैं।
बनर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री या अन्य नेता प्रचार के लिये आते हैं तो हमें कुछ नहीं कहना। रैलियों के लिए मंच और पंडाल लगाने के लिए भाजपा को सबसे बुरी तरह प्रभावित राज्यों से लोगों को क्यों लाना चाहिए? तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने कहा कि स्थानीय श्रमिक और सज्जाकारों की आवश्यक कोविड-19 जांच के बाद इस उद्देश्य के लिये सेवा ली जा सकती है।



और भी पढ़ें :