क्या IIT रुड़की के हॉस्टल में वाकई लगा अश्लील नोटिस...

Last Updated: बुधवार, 11 सितम्बर 2019 (12:34 IST)
सोशल मीडिया पर इन दिनों एक खबर काफी चर्चा में है कि आईआईटी रुड़की के हॉस्टल में हस्तमैथुन यानि ‘Masturbation’ से संबंधित एक नोटिस लगाया गया है। नोटिस में लिखा गया है कि ‘हस्तमैथुन रूम में करो, बाथरूम में नहीं’। इस खबर के साथ कई लोग आईआईटी रुड़की के लेटरहेड पर लिखे गए एक नोटिस की तस्वीर भी शेयर कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग इस नोटिस पर खूब मजे ले रहे हैं।
क्या है वायरल नोटिस में?


‘Masturbation notice’ हेडिंग के साथ इस नोटिस में लिखा है कि बाथरूम में हस्तमैथुन करना आईआईटी रुड़की के हॉस्टल के आचार संहिता का उल्लंघन है। वीर्य के कारण बाथरूम्स के ड्रेनेज पाइप जाम हो जाते हैं और इसके रख-रखाव में अतिरिक्त खर्च आता है। इसलिए अगले साल से हॉस्टेल फीस में बढ़ोतरी की जाएगी।


21 अगस्त 2019 को जारी किए गए इस नोटिस में सभी छात्रों से आग्रह किया गया है कि बाथरूम के बजाय अपने-अपने कमरों में ही हस्तमैथुन करें। नोटिस में होस्टल के चीफ वॉर्डन आशुतोष चमोली के हस्ताक्षर भी हैं।

क्या है सच?


नोटिस को गौर से देखने पर इसमें एक गलती नजर आई। जैसे - ‘Masturbation in the showers is a violation of Indian Institute of Roorkee Hostel code of conduct’ में ‘Indian Institute of Technology’ के बजाय ‘Indian Institute of Roorkee’ लिखा हुआ है। इतना बड़ा इंस्टीट्यूशन ऐसी गलती नहीं कर सकता।


इस खबर की पड़ताल के लिए हमने सबसे IIT Roorkee की वेबसाइट पर इससे संबंधित सर्कुलर खंगाला, लेकिन हमें नहीं मिला।


फिर हमने Masturbation notice, IIT Roorkee कीवर्ड्स से गूगल पर सर्च किया तो हमें कोई खास रिजल्ट नहीं मिला। फिर हमने ‘The showers are not designed to handle semensलाइन को सर्च किया, तो हमें वायरल नोटिस के जैसे ही कई अन्य नोटिस भी मिले। नोटिस का कंटेट हू-ब-हू एक जैसा था, बस कॉलेज के नाम अलग-अलग थे। कई तो विदेश के थे, लेकिन एक नोटिस मनीपाल यूनिवर्सिटी के नाम का भी मिला।

जब साल 2016 में मनीपाल यूनिवर्सिटी के नाम से यह नोटिस वायरल हुआ था, तो यूनिवर्सिटी के डायरेक्यर डॉ. जीके प्रभु ने इस नोटिस को छात्रों का प्रैंक बताया था। कई अन्य नोटिसों को भी संबंधित अधिकारियों ने फेक और प्रैंक बताया है।

पड़ताल को आगे बढ़ाते हुए हमने आईआईटी रुड़की के हॉस्टेल्स के चीफ वॉर्डन आशुतोष चमोली से बात की। आशुतोष चमोली ने बताया कि उनके नाम से जारी हुआ नोटिस फर्जी है। उन्होंने कहा कि इस तरह का कोई नोटिस जारी नहीं किया गया है।


वेबदुनिया की पड़ताल में पाया गया कि आईआईटी रुड़की में नहीं लगा है। ये छात्रों द्वारा किया गया एक प्रैंक है।



 

और भी पढ़ें :