0

वसंत पंचमी के दिन नील सरस्वती पूजने से होती है धन की वृद्धि

गुरुवार,जनवरी 30, 2020
neel saraswati
0
1
माता-पिता अपने बच्चे को गोद में लेकर बैठें। बच्चे के हाथ से गणेश जी को पुष्प समर्पित कराएं और स्वस्तिवचन इत्यादि का पाठ करके बच्चे की जुबान पर शहद से ‘ऐं’ लिखें।
1
2
बुद्धि में विकास के लिए वसंत पंचमी के दिन काली मां के दर्शन कर पेठा या कोई भी फल अर्पित कर ‘ॐ ऐं ह्रीं क्लीं महा सरस्वत्यै नम:’ मंत्र का सस्वर जाप करना चाहिए।
2
3
अगर आप कुशल वक्ता बनना चाहते हैं तो 11 माला नित्य करें। ऐसा करने से व्यक्ति वागीश हो जाता है। वाक् सिद्धि हो जाती है। इस मंत्र को ब्रह्माजी, वेदव्यासजी, बृहस्पति ने जपा था। सरस्वती देवी की मूर्ति या चित्र श्वेत अक्षत पर रख श्वेत पुष्प चढ़ाएं।
3
4
हिन्दू मान्यता के अनुसार वसंत पंचमी को अबूझ मुहूर्त माना जाता है। इस दिन बिना मुहूर्त जाने शुभ और मांगलिक कार्य किए जाते हैं।
4
4
5
हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥ जग सिरमौर बनाएं भारत, वह बल विक्रम दे। वह बल विक्रम दे॥ हे हंसवाहिनी ज्ञानदायिनी अम्ब विमल मति दे। अम्ब विमल मति दे॥
5
6
माघ महीने के शुक्ल पक्ष की पंचमी से ऋतुओं के राजा वसंत का आरंभ हो जाता है। आइए जानते हैं कैसे करें वसंत पंचमी का पूजन :-
6
7
ज्ञान और बुद्धि की देवी सरस्वती की आराधना विविध प्रकार से की जाती है। वसंत पंचमी के दिन मंत्रों से की गई आराधना विशेष प्रतिफलित होती है। प्रस्तुत है पुराणों से लिए गए सरस्वती के 3 असरकारी मंत्र :
7
8
वसंत पंचमी के दिन विद्या, ज्ञान और बुद्धि की देवी सरस्वती की आराधना विविध प्रकार से की जाती है। मंत्रों से की गई आराधना विशेष प्रतिफलित होती है। प्रस्तुत है पुराणों से ‍लिए गए सरस्वती के 3 असरकारी मंत्र :
8
8
9
सरस्वती मां उनसे कहती हैं- व्यास! तुम मेरी प्रेरणा से रचित वाल्मीकि रामायण को पढ़ो, वह मेरी शक्ति के कारण सभी काव्यों का सनातन बीज बन गया है। उसमें श्रीरामचरित के रूप में मैं साक्षात्‌ मूर्तिमती शक्ति के रूप में प्रतिष्ठित हूं-
9
10
वसंत पंचमी को वेलेंटाइन डे की तरह की प्रेम दिवस या प्रेम के इजहार का दिवस माना जाता है, लेकिन इस दिन माता सरस्वती का जन्म हुआ था इसलिए इसका ज्यादा महत्व है बजाए प्रेम दिवस के। लेकिन आप जानिए ऐसे 2 कारण जिसके चलते इसे प्रेम दिवस कहा जाता है।
10
11
बसंत ऋतु में होली, धुलेंडी, रंगपंचमी, बसंत पंचमी, नवरात्रि, रामनवमी, नव-संवत्सर, हनुमान जयंती और गुरु पूर्णिमा उत्सव मनाए जाते हैं। इनमें से रंगपंचमी और बसंत पंचमी जहां मौसम परिवर्तन की सूचना देते हैं वहीं नव-संवत्सर से नए वर्ष की शुरुआत होती है। ...
11
12
विष्णु से अनुमति लेकर उन्होंने एक चतुर्भुजी स्त्री की रचना की जिसके एक हाथ में वीणा तथा दूसरा हाथ वर मुद्रा में था। अन्य दोनों हाथों में पुस्तक एवं माला थी।
12
13
0 जनवरी को सरस्वती देवी की पूजा अर्चना की जाएगी। माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि में इस वर्ष 3 ग्रहों का स्वराशि योग निर्मित हो रहा है। मंगल वृश्चिक राशि पर, गुरु धन में और शनि मकर में रहेंगे।
13
14
वसंत पंचमी के दिन राशि अनुसार विशेष उपाय करने से विद्या, समृद्धि, सुख, धन और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है....
14
15
हे देवी, वसंत में खिली लताओं से मंडित, नाना कमलों से, हंसों की मंडली से अलंकृत मलय पवन से आंदोलित सरोवर में सखियों के मध्य क्रीड़ा करती हुई मां सरस्वती तुम्हारा ध्यान करने से ज्वरजनित पीड़ा दूर होती है।
15
16
ब्रह्माजी ने माता सरस्वती की उत्पत्ति वसंत पंचमी के दिन की थी, यही कारण है कि प्रत्येक वर्ष वसंत पंचमी के दिन ही देवी सरस्वती का जन्मदिन मानकर पूजा-अर्चना की जाती है।
16
17
त्रिदेवियों में से एक माता सरस्वती की पूजा देश में कम ही होती है। उनके मंदिर भी बहुत कम ही पाए जाते हैं। वसंत पंचमी को ही उनकी विशेष रूप से पूजा और अर्चना होती है। कार्यस्थलों पर उनकी मूर्ति को देखा जा सकता है। सरस्वती को बागीश्वरी, भगवती, शारदा, ...
17
18
देवी सरस्वती के 3 ऐसे भक्त रहे हैं। जो पहले मंद बुद्धि थे। लेकिन मां सरस्वती की आराधना के बाद वह विद्वानों की श्रेणी में वरिष्ठ क्रम में आते हैं। यह तीन भक्त कालिदास, वरदराजाचार्य और वोपदेव हैं, जो बचपन में अत्यल्प बुद्धि के थे।
18
19
वसंत ऋतु में पंचमी का उत्सव 'मां सरस्वती' के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। भगवती सरस्वती विद्या की अधिष्ठात्री देवी हैं और विद्या को सभी धनों में प्रधान धन कहा गया है। विद्या से ही अमृतपान किया जा सकता है। विद्या और बुद्धि की देवी सरस्वती की ...
19