जल्द से जल्द की जाए पुलिस एवं फोरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय स्थापना : योगी आदित्यनाथ

Author अवनीश कुमार| Last Updated: गुरुवार, 19 नवंबर 2020 (08:27 IST)
लखनऊ। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री ने बुधवार देर शाम बैठक करते हुए उत्तरप्रदेश पुलिस एवं फोरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय स्थापना जल्द से जल्द कराए जाने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कानून का राज स्थापित करते हुए अपराध पर नियंत्रण राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल है। प्रदेश सरकार पीड़ितों को त्वरित न्याय दिलवाने के लिए प्रतिबद्ध है।
ALSO READ:
प्रियंका का योगी से सवाल, बताएं कि 'मिशन शक्ति' अभियान कितना सफल रहा?
न्यायालयों में दायर विभिन्न प्रकार के वादों के निस्तारण में फोरेंसिक रिपोर्ट की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। प्रदेश में विधि विज्ञान के क्षेत्र में दक्ष लोगों की उपलब्धता तथा फोरेंसिक साइंस में उच्चस्तरीय शोध के उद्देश्य से राज्य सरकार उप्र पुलिस एवं फोरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय की स्थापना कर रही है।
उप्र पुलिस एवं फोरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय के गठन, इसके लिए भूमि के आवंटन, बजट के आगणन, विश्वविद्यालय के संचालनार्थ पदों के सृजन, विश्वविद्यालय में प्रस्तावित विभागों, कुल प्रस्तावित पदों, उप्र पुलिस एवं फोरेंसिक साइंस विश्वविद्यालय एवं डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय के बीच एमओयू इत्यादि के विषय में विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने लखनऊ की सरोजिनीनगर तहसील में पुलिस प्रशिक्षण संस्थान के नाम दर्ज 57.549 हैक्टेयर भूमि में से इस विश्वविद्यालय के लिए 50 एकड़ भूमि की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। उन्होंने इस विश्वविद्यालय के निर्माण कार्य को शीघ्र प्रारंभ कर संचालित करने के निर्देश दिए।



और भी पढ़ें :