एशियाई खेल : निशानेबाजी में रजत, लेकिन कबड्डी में मिली निराशा

पुनः संशोधित गुरुवार, 23 अगस्त 2018 (22:17 IST)
हमें फॉलो करें
पालेमबांग-जकार्ता। के किशोर निशानेबाजों के हैरतअंगेज प्रदर्शन को आगे बढ़ाते हुए ने एशियाई खेलों में गुरुवार को रजत पदक जीता लेकिन जिस कबड्डी में टीम का स्वर्ण पदक पक्का माना जा रहा है उसमें टीम सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गई। भारत गुरुवार को एक भी स्वर्ण पदक नहीं जीत पाया। वह अब 4 स्वर्ण, 4 रजत और 10 कांस्य पदकों सहित कुल 18 पदक लेकर 10वें स्थान पर है।


सौरभ चौधरी के सबसे कम उम्र में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रचने के बाद गुरुवार को 15 वर्षीय विहान रजत पदक जीतकर एशियाई खेलों में सबसे कम उम्र में पदक जीतने वाले भारतीय बन गए। वे डबल ट्रैप में दूसरे स्थान पर रहे।

मेरठ के रहने वाले विहान ने क्वालीफिकेशन में शीर्ष पर रहने के बाद फाइनल में 73 अंक बनाए। दक्षिण कोरिया के 34 वर्षीय ह्यूनवू शिन ने स्वर्ण और कतर के 42 वर्षीय हमद अली अल मारी ने कांस्य पदक जीता। विहान ने कहा कि सर (कोच मनशेर सिंह) ने बोला कि सब तेरे से बड़ी उमर के होंगे। बेपरवाह होकर खेलना और मैंने ऐसा ही किया।

में निशानेबाजी में इतिहास रचा लेकिन उससे 600 किमी दूर जकार्ता में कबड्डी टीम ने शर्मनाक प्रदर्शन किया और उसे कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। एशियाई खेलों के इतिहास में पहली बार भारतीय टीम इस स्वदेशी खेल में स्वर्ण पदक के बिना लौटेगी। टीम को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। इस खेल में भारत का स्वर्ण पदक पक्का माना जाता था लेकिन गुरुवार को 18-27 की हार के साथ भारतीय खेमे के कुछ लोग रोने लगे जबकि अन्य सकते में आ गए। इसके साथ ही एशियाई खेलों में 1990 से चला आ रहा भारत का दबदबा भी खत्म हो गया।

भारतीय कोच ने मैच के बाद कहा कि हम कप्तान के अति आत्मविश्वास के कारण मैच हारे। चोट और सुपरटैकल ने भी अपनी भूमिका निभाई। टेनिस कोर्ट से कुछ अच्छी खबर सुनने को मिली। रोहन बोपन्ना और दिविज शरण ने अपने अनुभव का पूरा फायदा उठाकर पुरुष युगल स्पर्धा के फाइनल में प्रवेश किया। महिलाओं के एकल में हालांकि अंकिता रैना को शीर्ष वरीय शुआई झांग के खिलाफ अपने बेहतरीन खेल के बावजूद कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।

एक अन्य पदक तब सुनिश्चित हुआ, जब दुनिया के 161वें नंबर के खिलाड़ी प्रज्नेश गुणेश्वरन ने करीब 4 घंटे तक चले मैराथन क्वार्टर फाइनल में दक्षिण कोरिया के 273वीं रैंकिंग पर काबिज क्वोन सूनवू ने 6-7, 6-4, 7-6 से शिकस्त दी। भारत ने स्क्वॉश में भी कम से कम 1 कांस्य पदक पक्का कर लिया, क्योंकि देश के शीर्ष रैंकिंग के खिलाड़ी सौरव घोषाल पुरुष एकल क्वार्टर फाइनल में हमवतन हरिंदर पाल संधू से भिड़ेंगे। महिलाओं के एकल में जोशना चिनप्पा और दीपिका पल्लीकल ने भी क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।
में की रजत पदक विजेता पीवी सिंधू ने वियतनाम की वू थि त्रांग से मिली कड़ी चुनौती से उबरते हुए जीत दर्ज की जबकि राष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता साइना नेहवाल एकतरफा मुकाबला जीतकर दूसरे दौर में पहुंच गई। सिंधू को पहले दौर में अप्रत्याशित रूप से काफी मशक्कत करनी पड़ी। उन्होंने 58 मिनट तक चले मुकाबले में 21-10, 12-21, 23-21 से जीत दर्ज की, वहीं साइना ने ईरान की सुरैया अघाजियाघा को सिर्फ 26 मिनट में 21-7, 21-9 से मात दी। अब उनका सामना इंडोनेशिया की फित्रियानी फित्रियानी से होगा।
तीरंदाजी में हालांकि निराशाजनक प्रदर्शन जारी रहा। दुनिया की पूर्व नंबर 1 खिलाड़ी दीपिका कुमारी फिर से नाकाम रहीं और उनकी अगुवाई में रिकर्व तीरंदाजों ने निराश किया जिससे उनकी चुनौती भी समाप्त हो गई। गुरुवार को केवल अतानु दास ही क्वार्टर फाइनल में पहुंचे लेकिन वे भी इससे आगे नहीं बढ़ पाए। भारोत्तोलन में भी अच्छी खबर नहीं मिली। अजय सिंह पुरुषों के 77 किग्रा में अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद 5वें स्थान पर आए जबकि अनुभवी सतीश शिवालिंगम चोटिल हो गए।
भारत के अजय सिंह 10वें एशियाई खेलों के भारोत्तोलन में गुरुवार को यहां अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयास के साथ 5वें स्थान पर रहे जबकि उनके वरिष्ठ साथी सतीश शिवालिंगम पुरुषों के 77 किग्रा भार वर्ग की स्पर्धा के दौरान चोटिल हो गए। सतीश ने आखिर में कुल 314 किग्रा (144
किग्रा+170 किग्रा) भार उठाया। एशियाई युवा एवं जूनियर भारोतोलन चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाले 21 वर्षीय अजय ने अपने हमवतन से बेहतर प्रदर्शन किया लेकिन 327 किग्रा (145 किग्रा+182 किग्रा) भार उठाने के बावजूद वे पोडियम तक नहीं पहुंच पाए।
तैराकी में श्रीहरि नटराज ने 200 मीटर बैकस्ट्रोक में 2 बार राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया लेकिन फाइनल में वे 6ठे स्थान पर रहे जबकि वीरधवल खाड़े 50 मीटर बटरफ्लाई के फाइनल में 8वें और अंतिम स्थान पर आए। गोल्फ से हालांकि सकारात्मक खबर मिली। आदिल बेदी ने प्रतियोगिता के पहले दिन बोगी मुक्त 69 का कार्ड खेलकर भारतीय पुरुष टीम को गुरुवार को शानदार शुरुआत दिलाई। उनके इस प्रयास से टीम और वे स्वयं संयुक्त दूसरे स्थान पर हैं।
लेकिन भारतीय नौकायन दल के लिए गुरुवार का दिन निराशाजनक रहा जिसमें वे पुरुष सिंगल स्कल्स और डबल स्कल्स जैसी स्पर्धाओं सहित 4 पदकों से चूक गए। स्वर्ण पदक के प्रबल दावेदार दत्तू भोकानल से सबसे ज्यादा निराशा हुई, क्योंकि सिंगल स्कल्स फाइनल में 6ठे और अंतिम स्थान पर रहे। उन्होंने 8 मिनट 28.56 सेकंड का समय लिया। वे इन खेलों से पहले 7 मिनट का समय निकाल रहे थे। (भाषा)




और भी पढ़ें :