मैनचेस्टर सिटी की अदालत में जीत, ईपीएल में मुकाबला हुआ कड़ा

पुनः संशोधित सोमवार, 13 जुलाई 2020 (18:06 IST)
लंदन। मैनचेस्टर सिटी के चैंपियंस लीग में भाग लेने पर लगे प्रतिबंध को सोमवार को सफलतापूर्वक पलटने से (ईपीएल) में यूरोप के शीर्ष क्लब टूर्नामेंट के लिए क्वालीफाई करने वाली आखिरी 2 टीमों को लेकर आपसी होड़ गहरा गई है।
चैंपियंस लीग में प्रत्येक लीग से शीर्ष 4 में रहने वाली टीमें भाग लेती हैं। लिवरपूल और सिटी पहले ही क्वालीफाई कर चुके हैं जबकि चेल्सी, मैनचेस्टर यूनाइटेड और लीस्टर सिटी के बीच बाकी बचे दो स्थानों के लिए मुकाबला कड़ा हो गया है। यहां तक वॉल्वरहैम्पटन वांडरर्स और शैफील्ड यूनाइटेड भी शीर्ष चार में जगह बनाने की दौड़ में हैं।

अगर सिटी पर लगा प्रतिबंध बरकरार रहता तो पांचवें स्थान की टीम भी चैंपियंस लीग के लिए क्वालीफाई कर जातीं। लीस्टर इनमें से सबसे ज्यादा चिंतित टीम होगी। वह सितंबर से ही शीर्ष चार में शामिल थी लेकिन लीग की वापसी के बाद उसने छह में से केवल एक मैच जीता है और इस बीच उसने छह अंक ही हासिल किए जिससे वह तीसरे से चौथे स्थान पर खिसक गई।

उसे रविवार को दूसरी डिवीजन में खिसकने के कगार पर पहुंच चुकी बोर्नमाउथ के हाथों 4-1 से हार झेलनी पड़ी और अगर मैनचेस्टर यूनाइटेड अपने अगले मैच में साउथम्पटन को हरा देता है तो लीस्टर पांचवें स्थान पर खिसक जाएगा।
चेल्सी अभी 35 मैचों में 60 अंक लेकर तीसरे स्थान पर है जबकि लीस्टर के इतने ही मैचों में 59 अंक हैं। यूनाइटेड के 34 मैचों में 58 अंक हैं और अगले मैच में जीत से वह तीसरे स्थान पर पहुंच जाएगा। वॉल्वस के 55 और शैफील्ड के 54 अंक हैं और ये भी शीर्ष चार में जगह बनाने की दौड़ में हैं। (भाषा)



और भी पढ़ें :