0

इन 6 के बारे में बुरा सोचने पर खुद का ही होता है नाश

गुरुवार,जनवरी 3, 2019
0
1
हिन्दू धर्म में ईश्‍वर आराधना के प्रकार हैं- संध्यावंदन-संध्योपासना, प्रार्थना-आराधना, ध्यान-साधना, कीर्तन-भजन और ...
1
2
* मन और मस्तिष्क को स्वच्छ, निर्मल और सकारात्मक बनाने के लिए हिन्दू धर्म में कई रीति-रिवाज, परंपरा और उपाय निर्मित किए ...
2
3
भोजन, पानी और हवा गुणवत्तापूर्ण नहीं है तो रोग उत्पन्न होते हैं। हिन्दू शास्त्रों और आयुर्वेद में इस संबंध में कई तरह ...
3
4
हिन्दू शास्त्रों और ज्योतिष के अनुसार धन, संपत्ति आदि में बरकद रखने के लिए कुछ नियम और उपाय बताएं गए हैं यदि लोग उन ...
4
4
5
वेदानुसार यज्ञ पांच प्रकार के होते हैं-1. ब्रह्मयज्ञ, 2. देवयज्ञ, 3. पितृयज्ञ, 4. वैश्वदेव यज्ञ, 5. अतिथि यज्ञ। उक्त ...
5
6
वर्ष, माह और दिन में कुछ माह, दिन और समय बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं। इन दिनों में यदि आप पवित्र बने रहे तो बहुत सारे ...
6
7
हिन्दू धर्म में सुगंध या खुशबू का बहुत महत्व माना गया है। वह इसलिए कि सात्विक अन्न से शरीर पुष्ट होता है तो सुगंध से ...
7
8
हिन्दू धर्म में वैसे तो कई तरह के पाप और पापियों के बारे में उल्लेख मिलता है लेकिन कुछ ऐसे दोष यहां बताए जा रहे हैं ...
8
8
9
देवता और दैत्य अर्थात सुर और असुर दोनों के ही आराध्य देव भगवान शिव हैं। भगवान शिव को परमब्रह्म के तुल्य माना जाता है। ...
9
10
दीपावली पर अक्सर चारों और दीपक जलाए जाते हैं। हालांकि सभी घरों में दीपावली के अलावा प्रतिदिन पूजा घर में दीपक जलाएं ...
10
11
शक्ति ही तय करती है आपका भविष्य। शक्ति से ही हर तरह की सफलता हासिल की जा सकती है। लेकिन जरूरी यह भी है कि शक्ति का घमंड ...
11
12
बहुत से ऐसे लोग मिलते हैं जो दूसरों से सबकुछ पूछ लेते हैं और जब दूसरे उनसे कुछ पूछने लगता है तो वे गोलमाल सा जबाब देकर ...
12
13
भारतीय नीति और धर्मशस्त्रों में कई बातों का उल्लेख मिलता है। उन्हीं में से छह ऐसी बातें हम आपके लिए निकाल कर लाएं हैं ...
13
14
धन कर मिलना, बढ़ना और बचना बहुत जरूरी है। कई लोगों को यह शिकायत रहती है कि पैसे इस हाथ आता है और उस हाथ चला भी जाता है। ...
14
15
कहते हैं कि जैसा खाओगे अन्न वैसे मना मन। अर्थात जैसा खाना हम खाते हैं, हमारी सोच और विचार भी वैसे ही बनते हैं। भोजन से ...
15
16
प्रत्येक धर्म में धर्मग्रंथों का अत्यधिक महत्व होता है, और पवित्रता एवं सम्मान की दृष्टि से इन्हें पढ़ने के लिए समय और ...
16
17
* पुराणों के अनुसार यमलोक को मृत्युलोक के ऊपर दक्षिण में 86,000 योजन दूरी पर माना गया है। एक लाख योजन में फैले यमपुरी ...
17
18
24 घंटे में 8 घंटे हम यदि ऑफिस की कुर्सी पर तो 8 घंटे हम बिस्तर पर गुजारते हैं। बिस्तर की तरह कुर्सी भी यदि अच्छी नहीं ...
18
19
बहुत-सी ऐसी बातें हैं जिनको गुप्त रखना चाहिए, लेकिन बहुत-सी ऐसी बातें हैं जिनको लोगों के सामने खोल कर रख देना चाहिए। ...
19