Russia-Ukraine War : रूस ने यूक्रेन की गोलाबारी में 53 युद्धबंदियों की मौत का किया दावा

पुनः संशोधित शुक्रवार, 29 जुलाई 2022 (17:48 IST)
हमें फॉलो करें
कीव। मारियुपोल पर कब्जे की जंग के दौरान बंधक बनाए गए कम से कम 53 यूक्रेनी युद्धबंदी की गोलाबारी में मारे गए हैं। पूर्वी यूक्रेन में के समर्थन वाले अलगाववादियों ने यह दावा किया। इन दावों के संबंध में यूक्रेन के अधिकारियों की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है।
के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट जनरल इगोर कोनाशेंकोव ने कहा कि यूक्रेन की ओर से रूसी नियत्रंण वाले दोनेत्स्क क्षेत्र में ओलेनिवका कस्बे की एक जेल पर रॉकेट दागे गए, जिसमें 75 यूक्रेनी युद्धबंदी घायल हुए। इससे पहले दोनेत्स्क क्षेत्र में रूस समर्थित अलगाववादियों के प्रवक्ता दानिल बेजसोनोव ने जेल पर हुए रॉकेट हमले में 40 यूक्रेनी युद्धबंदियों के मारे जाने की जानकारी दी थी।

इन दावों के संबंध में यूक्रेन के अधिकारियों की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। कोनाशेंकोव ने दावा किया कि यूक्रेनी सैनिकों को आत्मसमर्पण करने से हतोत्साहित करने के लिए ये हमला किया गया। उन्होंने कहा कि जेल पर हुए हमले में आठ सुरक्षाकर्मी भी घायल हुए हैं।

वहीं दोनेत्स्क क्षेत्र में यूक्रेनी प्रशासन ने कहा कि रूस यूक्रेन के नियंत्रण वाले इलाकों में आम जनता को निशाना बना रहा है। युद्ध तेज होने का हवाला देते हुए दोनेत्स्क के गवर्नर पाव्लो किरिलेंकों ने आम लोगों को जल्द से जल्द क्षेत्र से चले जाने का अनुरोध करते हुए कहा, रूसी बलों को आम लोगों के मारे जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता। वे क्षेत्र के शहरों और गांवों को निशाना बना रहे हैं।

यूक्रेन में मारियुपोल के अजोव सागर बंदरगाह पर कब्जे के लिए हुए भीषण संघर्ष के बाद यूक्रेन के सैनिकों को बंदी बना लिया गया था। वे कई महीने तक विशाल अजोवस्त्ल इस्पात कारखाने में छिपे हुए थे। अजोव रेजीमेंट और अन्य यूक्रेनी इकाइयों ने करीब तीन महीने तक इस्पात कारखाने को बचाया और इसकी सुरंगों में छिपे रहे। उन्होंने रूस के तेज हमलों के बीच मई में आत्मसमर्पण कर दिया था।

इसके बाद बड़ी संख्या में यूक्रेन के सैनिकों को दोनेत्स्क जैसे रूस नियंत्रित इलाकों की जेलों में ले जाया गया। दोनेत्स्क पूर्वी यूक्रेन से अलग हुआ एक क्षेत्र है जिसे रूस समर्थित अलगाववादी अधिकारी चलाते हैं।(भाषा)



और भी पढ़ें :