तुम हँसती हो तो

जनकसिंह झाला|
तुम हँसती हो तो दुनिया हँसती है,
जब तुम रोती हो तो दुनिया रोती है,

तुम्हारे लिए जो महज एक आँसू है,
मेरे लिए तो वह अनमोल मोती है।

इन मोतियों को ऎसे ना गिराओ,
हमारे दिल से अपने दिल को मिलाओ,

तुम्हारी दूरियाँ अब सही नहीं जाती, आँखों को भी कम्बख्त नींद नहीं आती।

बेचैनी है आखिर हममें यह कैसी,
हालत हमारी है बिलकुल मजनूँ जैसी,
में हुआ था कबीरा भी दिवाना,
मीरा भी तो हुई थी दिवानी जैसी।
बस एक बार कहो कि, तुम मेरे साथ हो,
एक पल के लिए नहीं, सो जन्मों तक मेरे पास हो,
इन साँसो की तुम्हीं तो आवाज हो,
तुम्हीं मेरी मौसिकी, तुम्हीं मेरा साज हो।



और भी पढ़ें :