0

भगवान कार्तिकेय के 70 चमत्कारी दिव्‍य नाम

बुधवार,जून 16, 2021
0
1
यदि किसी कारणवश आप श्री बजरंग बाण का नित्य पाठ करने में असमर्थ हो तो प्रत्येक मंगलवार को यह पाठ अवश्य पढ़ना चाहिए। अपने किसी भी इष्ट कार्य की सिद्धि के लिए मंगल अथवा शनिवार का दिन चुन लें।
1
2
समस्त योगिनियां अलौकिक शक्तिओं से सम्पन्न हैं तथा इंद्रजाल, जादू, वशीकरण, मारण, स्तंभन इत्यादि कर्म इन्हीं की कृपा द्वारा ही सफल हो पाते हैं। प्रमुख रूप से आठ योगिनियां हैं जिनके नाम इस प्रकार हैं:- 1.सुर-सुंदरी योगिनी, 2.मनोहरा योगिनी, 3. कनकवती ...
2
3
आज सूर्य ग्रहण है। भगवान सूर्य के इन 7 सरल मंत्रों में से किसी भी मंत्र का जाप करके आप अपने जीवन के हर संकट को दूर कर सकते हैं। आइए जानें-
3
4
गुरुवार को शनि जयंती है। शनि जयंती या प्रति शनिवार इन विशेष मंत्रों के जाप से यश, सुख, समृद्धि, कीर्ति, पराक्रम, वैभव, सफलता और अपार धन-धान्य के साथ प्रगति के द्वार खुलते हैं। किसी एक मंत्र का चयन करें और अवश्य जपें....
4
4
5
क्या आपको भी खुशियां मिलते-मिलते रह जाती हैं? अगर ऐसा है तो यह 8 बातें आपके काम की है, जिनको जीवन में अपना कर आप शनिदेव को खुश कर सकते हैं। आइए जानें-
5
6
सुख-शांति की कामना से शिव का पूजन किया जाता है। इस दिन शिव पर पुष्प चढ़ाने तथा शिव के मंत्रों के जप का विशेष महत्व माना गया है। इस दिन पूरे विधि-विधान एवं मंत्र जाप से शिव की पूजा करने से मनुष्य
6
7
कहते हैं कि यदि कर्ज नहीं उतर पा रहा है तो बारिश का पानी एक बाल्टी में एकत्रित कर लें और उसमें दूध डालकर भगवान स्मरण करके पूरे माह में इसी तरह स्नान कर लें। ऐसा करने से धीरे-धीरे आपका कर्ज उतरने लगेगा।
7
8
सभी हिन्दू शास्त्रों में लिखा है कि मंत्रों का मंत्र महामंत्र है गायत्री मंत्र। यह प्रथम इसलिए कि विश्व की प्रथम पुस्तक ऋग्वेद की शुरुआत ही इस मंत्र से होती है। कहते हैं कि ब्रह्मा ने चार वेदों की रचना के पूर्व 24 अक्षरों के गायत्री मंत्र की रचना की ...
8
8
9
मंत्र' का अर्थ होता है मन को एक तंत्र में बांधना। संकट कालमें अनावश्यक और अत्यधिक विचार उत्पन्न हो रहे हैं और जिनके कारण चिंता पैदा हो रही है, तो मंत्र सबसे कारगर औषधि है। आप जिस भी ईष्ट की पूजा, प्रार्थना या ध्यान करते हैं उसके नाम का मंत्र जप सकते ...
9
10
शनिवार के दिन तथा शनि अमावस्या के अवसर पर इन उपायों को करने से कई गुना ज्यादा फल प्राप्त होते हैं। यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत हैं ऐसे 11 सरल उपाय
10
11
धन, सुंदरता और स्वास्थ्य के लिए चंद्र देव को प्रसन्न करना चाहिए। चंद्र ग्रहण में उनकी प्रसन्नता के लिए इन मंत्रों का उच्चारण करें, हर चंद्र मंत्र का जाप 11 बार करें। धन और आरोग्य का वरदान प्राप्त करने के लिए प्रस्तुत है चन्द्रमा के मंत्र -
11
12
प्रस्तुत है चंद्रमा के 111 ऐसे नाम, जिनके जप से चंद्रदेव प्रसन्न होते हैं। मन का विश्वास बढ़ाने में भी यह नाम कारगर है क्योंकि चंद्र मन का कारक ग्रह है।
12
13
नृसिंह जयंती पर उनके बीज मंत्र के जप से शत्रुओं का नाश होकर कोर्ट-कचहरी के मुकदमे आदि में विजय प्राप्त होती है।
13
14
इस वर्ष नृसिंह जयंती पर्व 25 मई 2021, मंगलवार को मनाया जाएगा। इसी दिन भगवान नृसिंह ने खंभे को चीरकर अपने भक्त प्रह्लाद की रक्षा के लिए अवतार लिया था।
14
15
वर्ष 2021 में 25 मई 2021 का दिन बहुत खास है। इस दिन भगवान विष्णु ने भक्त प्रह्लाद को बचाने के लिए भगवान नृसिंह का सिंहावतार लिया था।
15
16
ग्रहों की विपरीत दशा और गलत संगत से बचाना भी जरूरी होता है। मां बगलामुखी का यह रक्षा मंत्र और प्रयोग विधि उन्हें हर संकट से बचाता है।
16
17
मां बगलामुखी कानूनी मामलों और मुकदमों में विजय का वरदान देती है...मां बगलामुखी के मंत्र दुर्लभतम हैं। इन मंत्रों के प्रयोग भी अन्य प्रयोग से जरा हटकर होते हैं।
17
18
वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी मनाई जाती है। गंगा सप्तमी गंगा मैया के पुनर्जन्म का दिन है, इसलिए इसे कई स्थानों पर गंगा जयंती के रूप में भी मनाया जाता है।
18
19
देवि! सुरेश्वरि! भगवति! गंगे! त्रिभुवनतारिणि तरलतरंगे। शंकरमौलिविहारिणि विमले मम मतिरास्तां तव पदकमले ॥1 ॥ हे देवी! सुरेश्वरी! भगवती गंगे! आप तीनों लोकों को तारने वाली हैं। शुद्ध तरंगों से युक्त, महादेव शंकर के मस्तक पर विहार करने वाली हे ...
19