शुक्रवार, 19 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. प्रादेशिक
  4. Who is the Bali of Maharashtra, whom Uddhav Thackeray wants to eliminate
Last Modified: नासिक , मंगलवार, 23 जनवरी 2024 (20:35 IST)

कौन है महाराष्ट्र का बाली, जिसे खत्म करना चाहते हैं उद्धव ठाकरे

कौन है महाराष्ट्र का बाली, जिसे खत्म करना चाहते हैं उद्धव ठाकरे - Who is the Bali of Maharashtra, whom Uddhav Thackeray wants to eliminate
Uddhav Thackeray targets Shinde: शिवसेना (यूबीटी) नेता उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे पर परोक्ष तौर पर निशाना साधने के लिए मंगलवार को महाकाव्य रामायण के एक पात्र राजा बाली का उल्लेख किया और शिंदे पर पार्टी को चुराने का आरोप लगाया।
 
ठाकरे ने नासिक शहर में पार्टी के एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए शिवसेना के कार्यकर्ताओं से ‘गद्दारों को राजनीतिक रूप से खत्म’ करने का संकल्प लेने की अपील की।
 
उन्होंने कहा कि हर किसी को यह समझना होगा कि भगवान राम ने वानर राजा बाली को क्यों मारा था। हमें आज के बाली को भी (राजनीतिक रूप से) खत्म करना होगा जिसने हमारी शिवसेना ले ली है। इस बाली को (राजनीतिक रूप से) समाप्त करने का संकल्प लें।
 
ठाकरे ने कहा कि हम निश्चित रूप से उन सभी का राजनीतिक रूप से खात्मा करेंगे जिन्होंने हमारी शिवसेना को चुरा लिया, भगवा ध्वज और उसके रक्षकों को धोखा दिया। 
 
ठाकरे ने कहा कि शिवसैनिक 'भगवान राम का मुखौटा पहने हुए रावणों' के मुखौटे फाड़ देंगे। उन्होंने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि भगवान राम किसी एक पार्टी की संपत्ति नहीं हैं। अगर आप ऐसा सोचते हैं तो हमें ‘भाजपा मुक्त श्रीराम’ बनाना होगा।
 
शिंदे पर परोक्ष तौर पर निशाना साधते हुए ठाकरे ने कहा कि उन्हें पार्टी अपने पिता (दिवंगत बाल ठाकरे) से विरासत में मिली है। शिंदे के विद्रोह के कारण जून 2022 में शिवसेना में विभाजन हुआ था।
 
ठाकरे ने कहा कि ये शिवसैनिक मेरी संपत्ति हैं। मुझे यह पार्टी और ये शिवसैनिक विरासत में मिले हैं। मैंने इन्हें चुराया नहीं है। कोई इसे वंशवाद कह सकता है। उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अपने पहले कार्यकाल (2014-19) के दौरान अयोध्या नहीं गए, जबकि उन्होंने विभिन्न देशों की यात्रा की।
 
उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए शिवसेना ने सक्रिय रूप से प्रचार किया था, लेकिन अब शिवसेना (यूबीटी) नेताओं के खिलाफ झूठे मामले दर्ज किए जा रहे हैं। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि भगवान राम अपने वचन निभाने के लिए जाने जाते हैं, जबकि आप वादे तोड़ते हैं। आप उन शिवसैनिकों को भूल गए जिन्होंने आपको इस पद तक पहुंचने में मदद की। राम की बात हो गई, अब काम की बात करो। हम (सत्ता में आने के बाद) आपके खिलाफ भी जांच करेंगे और आपको जेल भेजेंगे।
 
उन्होंने कहा कि आप कांग्रेस से पूछते हैं कि उन्होंने पिछले 70 वर्षों में क्या किया है। हमें बताएं कि आपने पिछले 10 वर्षों में क्या किया है। अपने कार्यकाल के पहले 5 वर्षों में प्रधानमंत्री दुनिया भर में घूमे। उनसे पूछें कि क्या उन्होंने पहले 5 साल में अयोध्या का एक बार भी दौरा किया था। हमने भी मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए प्रचार किया था।
 
उन्होंने ‘पीएम केयर्स फंड’ की जांच की मांग की और उसे ‘घोटालों का स्रोत’ बताया। शिवसेना (यूबीटी) के कांग्रेस के साथ गठबंधन को लेकर आलोचना को खारिज करते हुए ठाकरे ने कहा कि वे कहते हैं कि हम 'कांग्रेसवासी' बन गए है। भाजपा के साथ 30 साल बिताने के बाद भी हम 'भाजपावासी' नहीं बने। फिर हम 'कांग्रेसवासी' कैसे बन सकते हैं?
 
उन्होंने कहा कि भाजपा को इस बात पर भी बोलना चाहिए कि श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने मुस्लिम लीग के साथ मिलकर सरकार बनाई थी। उन्होंने आरोप लगाया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने स्वतंत्रता संग्राम में भाग नहीं लिया और वे अब देश की आजादी छीनने की कोशिश कर रहे हैं। (एजेंसी/वेबदुनिया) 
Edited by: Vrijendra Singh Jhala
 
ये भी पढ़ें
Republic Day Rangoli: गणतंत्र दिवस 2024 पर बनाएं ये खास रंगोली डिजाइन