CBI करेगी तूतीकोरिन मामले की जांच, पुलिस कस्टडी में हुई थी पिता-पुत्र की मौत, क्रिकेटरों, अभिनेताओं ने परिवार के लिए मांगा न्याय

Last Updated: रविवार, 28 जून 2020 (19:16 IST)
चेन्नई। में कथित पुलिस ज्यादती के बाद पिता-पुत्र की मौत की जांच अब करेगी। मुख्यमंत्री पलानीसामी ने कहा कि से मंजूरी मिलने के बाद मामला सीबीआई को हस्तांतरित किया जाएगा।तूतीकोरिन में पुलिस हिरासत में पिता-पुत्र की मौत के बाद राज्यभर में आक्रोश है।
पुलिस कस्टडी में पिता-पुत्र की मौत के बाद राजनीतिक घमासान मचा हुआ है। राजनीतिक हस्तियों, क्रिकेटरों और अभिनेताओं ने इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर गुस्सा जताया है और परिवारवालों के लिए न्याय की मांग की है। इस घटना के सामने आने के बाद 2 उप-निरीक्षकों सहित 4 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया था।
क्या था मामला : मीडिया खबरों के मुताबिक तूतीकोरिन में अपने मोबाइल फोन की दुकान को अनुमति के घंटों से अतिरिक्त समय तक खुला रखने के कारण पिछले शुक्रवार को हिरासत में लिए गए पिता और पुत्र की मौत कथित रूप से पुलिस हिरासत में की गई टॉर्चर के कारण हो गई थी। पीड़ित परिवार ने अत्याचार में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या के आरोप में केस चलाए जाने की मांग की थी।
खबरों के अनुसार पी जयराज और उनके बेटे फेनिक्स को उनकी सेलफोन की दुकान पर ज्यादा देर काम करके लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था और 23 जून को कोविलपट्टी के एक अस्पताल में उनकी मौत हो गई थी।
गौरतलब है कि उनके परिजन ने आरोप लगाया कि पुलिसकर्मियों ने सतनकुलम पुलिस स्टेशन में उनके साथ बुरी तरह मारपीट की थी।
पुलिस ने उनके साथ क्रूरता की जिससे 2 दिन बाद उनकी मौत हो गई।
Rahul Gandhi

राहुल गांधी ने जताया दु:ख : कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने घटना पर दु:ख प्रकट करते हुए दोनों के लिए न्याय की मांग की। उन्होंने कहा कि वे कोविड-19 के हालात के कारण परिवार को ढांढस बंधाने सतनकुलम नहीं जा सकते जहां पिछले सप्ताह यह घटना घटी।

तुतिकोरिन जिले में पार्टी के शक्ति मंच के सदस्यों को भेजे एसएमएस में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि हमें तब तक आंदोलन करना चाहिए जब तक इन मौत के जिम्मेदार लोगों को सजा नहीं मिल जाए। राहुल गांधी ने पार्टी सदस्यों से आज शाम 7 बजे दोनों को श्रद्धांजलि देने के लिए मोमबत्ती जलाने का आग्रह किया।
क्रिकेटरों ने जताया गुस्सा : भारतीय टीम के अनुभवी ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और सलामी बल्लेबाज शिखर धवन ने जयराज और उनके बेटे फेनिक्स की मौत के मामले में मृतक के परिवार वालों के लिए न्याय की मांग की है।
अश्विन ने अपने ट्विटर अकाउंट पर लिखा कि हर एक के लिए जिंदगी मायने रखती है। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि क्रूरता का यह कार्य न्याय के साथ किया जाता है और मुझे यकीन नहीं है कि न्याय जयराज एंड फेनिक्स के परिवार के लिए कोई भी हल होगा। मेरी संवेदनाएं उनके साथ हैं।

शिखर धवन ने ट्वीट कर लिखा कि तमिलनाडु में जयराज और फेनिक्स पर हुई बर्बरता के बारे में सुना। हमें अपनी आवाज उठानी चाहिए और सुनिश्चित करना चाहिए कि परिवार को न्याय मिले।
मुख्यमंत्री को बताया मुख्य आरोपी : अभिनेता-राजनेता कमल हासन ने मामले को लेकर राज्य के मुख्यमंत्री और उनकी सरकार पर हमला बोला। कमल हासन ने मुख्यमंत्री के पलानीसामी को मामले का 'मुख्य आरोपी' बताया।
रजनीकांत ने की परिजनों से बात : तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने पिता-पुत्र के परिवार के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की। अभिनेता के प्रचार संबंधी काम को देखने वाले व्यक्ति ने एक ट्वीट में कहा कि सुपरस्टार ने पी. जयराज की पत्नी से फोन पर बात की और अपनी संवेदना व्यक्त की।



और भी पढ़ें :