रेप केस में सांसद प्रिंस राज की बढ़ीं मुश्किलें, गिरफ्तारी से बचने के लिए पहुंचे हाईकोर्ट, पार्टी ने बताया राजनीतिक साजिश

Last Updated: मंगलवार, 14 सितम्बर 2021 (20:13 IST)
prince raj
नई दिल्ली। लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) के सांसद के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने दुष्कर्म का मामला दर्ज किया है जिसके बाद उन्होंने मंगलवार को अग्रिम जमानत के लिए यहां की अदालत का रुख किया। उन्होंने अग्रिम जमानत याचिका में शिकायतकर्ता पर ब्लैकमेल करने का आरोप लगाया है।
पुलिस ने मंगलवार को बताया कि 3 महीने पहले कथित पीड़िता ने एक शिकायत दर्ज कराई थी जो कि पार्टी की एक सदस्य है। उन्होंने बताया कि अदालत के निर्देश पर बलात्कार, आपराधिक साजिश और साक्ष्य मिटाने के अपराध की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

लोजपा के प्रवक्ता श्रवण कुमार ने प्रिंस राज का बचाव किया और दावा किया कि उनके विरुद्ध आरोप, राजनीतिक साजिश के तहत उनकी छवि खराब करने के उद्देश्य से लगाए गए हैं और यह मामला ‘हनी ट्रैप’ (महिला के जरिेये फंसाने) का हो सकता है।
कुमार ने कहा कि समस्तीपुर से सांसद प्रिंस राज ने उस महिला के विरुद्ध 10 फरवरी को दिल्ली पुलिस में 'उगाही और ब्लैकमेल' की शिकायत दर्ज कराई थी जिसने उन पर बलात्कार का आरोप लगाया है। शिकायत के अनुसार, बलात्कार की कथित घटना 2020 में हुई थी।

प्रिंस राज ने जून में ट्वीट कर महिला द्वारा उनके खिलाफ लगाए गए आरोपों का खंडन किया था। महिला की शिकायत के मुताबिक दुष्कर्म की घटना वर्ष 2020 में हुई थी।
पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि 'अदालत का निर्देश नौ सितंबर को आया और कनॉट प्लेस पुलिस थाने में संबंधित धाराओं में मामला दर्ज किया गया है।' पुलिस ने कहा कि जांच जारी है और अभी तक इस संबंध में किसी से पूछताछ नहीं की गई है। प्रिंस राज की ओर से मंगलवार को दाखिल अग्रिम जमानत याचिका पर बृहस्पतिवार को विशेष न्यायाधीश एमके नागपाल की अदालत में सुनवाई होने की संभावना है।

अधिवक्ता नितेश राणा के जरिए दाखिल अग्रिम जमानत याचिका में दावा किया गया है कि कथित पीड़िता और उसका पुरुष साथी प्रिंस राज से पैसे की उगाही कर रहे थे और उन्हें ब्लैकमेल कर रहे थे। याचिका में कहा गया कि इस संबंध में पहले ही प्राथमिकी दर्ज की जा चुकी है जिसमें महिला और उसके साथी को अग्रिम जमानत दी गई है।
प्रिंस राज लोजपा नेता चिराग पासवान के चचेरे भाई हैं और पुलिस के मुताबिक उनका नाम भी प्राथमिकी में हैं। पुलिस ने बताया कि पीड़िता ने आरोप लगाया है कि चिराग पासवान ने प्रिंस के खिलाफ प्राथमिकी नहीं दर्ज कराने के लिए दबाव डाला। चिराग पासवान ने इससे पहले कहा था कि जब मामला सामने आया तो उन्होंने अपने चचेरे भाई और शिकायतकर्ता से बात की थी और दोनों को मामला पुलिस के पास ले जाने को कहा था।
उल्लेखनीय है चिराग पासवान और प्रिंस राज अब अलग हो गए हैं क्योंकि प्रिंस राज उनके चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस वाले लोकजनशक्ति पार्टी के गुट में शामिल हो गए है।

महिला का पक्ष रख रही अधिवक्ता सुदेश कुमारी जेठवा ने कहा कि पीड़िता द्वारा इस साल मई में कनॉट प्लेस पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई गई थी। जब कोई कार्रवाई नहीं की गई तो जुलाई में राउस एवेन्यू अदालत में अर्जी दी गई। उन्होंने बताया कि इसके बाद अदालत ने पुलिस को प्राथमिकी दर्ज करने और पारदर्शी एवं निष्पक्ष जांच करने का निर्देश दिया।’’
पुलिस ने बताया कि पीड़िता ने शिकायत में दावा किया कि प्रिंस राज से उसकी पहली मुलाकात पार्टी कार्यालय में हुई। बाद में कई बार बैठकों में मिले और एक बैठक में आरोपी ने कथित तौर पर पेय पदार्थ में कुछ मिलाकर दिया जिससे वह बेहोश गई और उसी हालत में आरोपी ने उनके साथ शारीरिक संबंध बनाए।

उन्होंने बताया कि शिकायत के मुताबिक जब महिला ने बाद में विरोध किया तो आरोपी ने वीडियो दिखाया जो उसने रिकॉर्ड किया था और जिसमें वह उसके साथ शारीरिक संबंध बनाते हुए दिख रहा है। महिला के मुताबिक आरोपी सांसद ने उसके समक्ष विवाह का भी प्रस्ताव रखा और धमकी दी कि वह इस वीडियो को इंटरनेट पर डाल देगा। महिला ने आरोप लगाया है कि इसके बाद प्रिंस राज असमय उससे मिलने आने लगा।
श्रवण कुमार ने किसी का नाम लिए बिना आरोप लगाया कि यह राजनीतिक साजिश है और पुलिस को समस्तीपुर से सांसद प्रिंस राज की शिकायत पर तत्काल जांच शुरू करनी चाहिए। उन्होंने कहा, 'हमें न्याय व्यवस्था पर पूरा भरोसा है।' पुलिस के मुताबिक फरवरी में पुलिस से की गई शिकायत में प्रिंस राज ने आरोप लगाया कि महिला ने उन्हें भरोसे में लेकर शारीरिक संबंध बनाया और अपने पुरुष मित्र- जिसके साथ वह लिव इन रिलेशन में रह रही थी- की मदद से पूरी घटना की वीडियो रिकॉर्डिंग कर ली।
प्रिंस राज ने आरोप लगाया कि महिला और उसके पुरुष मित्र ने एक करोड़ रुपए की मांग की लेकिन उन्होंने उसे 2 लाख रुपए दिए। बाद में कानूनी टीम की सलाह पर उन्होंने पुलिस से संपर्क किया। प्रिंस ने 17 जून को ट्वीट कर कहा कि मेरे संज्ञान में आया है कि एक महिला मेरे खिलाफ अपमानजनक बयान विभिन्न मीडिया घरानों में दे रही है और उत्पीड़न और प्रताड़ना का आरोप लगा रही है।

उन्होंने कहा कि मैं ऐसे किसी भी दावे का खंडन करता हूं जो मेरे खिलाफ किया जा रहा है। सभी ऐसे दावे पूरी तरह से गलत, मनगढ़ंत और मेरी प्रतिष्ठा की धमकी देकर व्यक्ति और पेशेवर स्तर पर दबाव बनाने की आपराधिक साजिश का हिस्सा है।



और भी पढ़ें :