कावेरी विवाद : 40 बसें फूंकी, बेंगलुरु में 7 थानों क्षेत्रों में कर्फ्यू

Last Updated: सोमवार, 12 सितम्बर 2016 (23:56 IST)
बेंगलुरु। तमिलनाडु को कावेरी नदी का जल देने के के आदेश के खिलाफ में पिछले एक सप्ताह से जारी सोमवार को हिंसक हो गया और उग्र प्रदर्शनकारियों ने राजधानी बेंगलुरु में 40 बसों में आग लगा दी जिसके बाद वहां धारा 144 लागू कर दी गई है। बेंगलुरु के सात थानों क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया है, साथ ही कर्नाटक के गृहमंत्री ने हिंसा पर उतारू लोगों को गोली मारने के आदेश जारी किए हैं।  
राज्य में कई जगहों पर तमिलनाडु के पंजीकृत कई वाहनों को फूंक दिया गया और कई दुकानों में तोड़फोड़ की। पुलिस ने बताया कि इस संबंध में करीब 200 लोगों को हिरासत में लिया गया है और सबसे ज्यादा प्रभावित केंगेरी इलाके में त्वरित कार्रवाई बल के जवानों को तैनात किया गया है।  देखें कर्नाटक में हिंसा और आगजनी की तस्वीरें...
 
कर्नाटक के गृहमंत्री जी परमेश्वर ने बताया कि बेंगलुरु में उग्र प्रदर्शनकारियों ने तमिलनाडु के पंजीकृत 27 वाहनों को फूंक दिया। कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए त्वरित कार्रवाई बल के अलावा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की 10 कंपनियों और पुलिस की 182 कंपनियों को तैनात किया गया है।
केन्द्र सरकार ने हिंसक स्थिति को काबू में करने के लिए विशेष दंगारोधी अर्द्धसैन्य बल के एक हजार जवानों को भेजा है। केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री राजनाथ सिंह ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता से टेलीफोन पर बात की और हालात का जायजा लिया। सिद्दारमैया ने लोगों से शांति बनाने की अपील की है।
               
प्रदर्शनकारियों ने तमिलनाडु के 50 से ज्यादा ट्रकों, निजी लक्जरी बसों और अन्य वाहनों को आग के हवाले कर दिया। कई जगहों पर दमकलकर्मियों को आग पर काबू पाते हुए देखा जा सकता है। बेंगलुरु और मैसूरु में स्थिति तनावपूर्ण है और वहां धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस ने उग्र  भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लगातार लाठीचार्ज करने और आंसूगैस के गोले  छोड़ने का आदेश दिया है।
                
कावेरी बेसिन इलाके में पिछले सप्ताह से शांतिपूर्ण प्रदर्शन हो रहे हैं लेकिन आज प्रदर्शन राज्य के अन्य हिस्सों में भी फैल गया और इसने उग्र रूप ले लिया। तमिलनाडु में कर्नाटक के लोगों पर हमलों के जवाब में राज्य में तमिल भाषी लोगों के खिलाफ हिंसा भड़क उठी। कन्नड़ भाषी लोगों के एक तमिल युवक की पिटाई की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद तमिलनाडु में कन्नड़ भाषी लोगों पर हिंसक हमले होने की घटनाएं सामने आ रही हैं।
         
त्वरित कार्रवाई बल ने हिंसा पर उतारू प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए कई स्थानों पर लाठीचार्ज किया। राज्य के विभिन्न हिस्सों में उग्र प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों को फूंक दिया और आदयार आनंद भवन होटल की शाखाओं में तोड़फोड़ की। इसके अलावा छोटी दुकानों में लूटपाट भी की गई।
        
गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने कर्नाटक सरकार की संशोधित याचिका पर सुनवाई के बाद कावेरी नदी से 15 हजार क्यूसेक के बजाय 12 हजार क्यूसेक पानी अगले 10 दिनों तक तमिलनाडु को देने का आज आदेश दिया।> >
कावेरी निरीक्षण समिति की अहम बैठक 19 सितंबर को : कावेरी निरीक्षण समिति ने बारिश के बाद कावेरी नदी के जल स्तर और बहाव का आकलन करने और जल बंटवारे के बारे में निर्णय लेने के लिए 19 सितंबर को बैठक बुलाई है।
       
केंद्रीय जल संसाधन और नदी विकास मंत्रालय में सचिव शशि शेखर की अध्यक्षता में यहां हुई बैठक में सोमवार को यह निर्णय लिया गया। बैठक में तमिलनाडु, कर्नाटक, पुड्डुचेरी तथा केरल के प्रतिनिधियों ने विस्तृत ब्योरा प्रस्तुत किया।
       
समिति ने समस्या के निदान का प्रयास किया लेकिन तमिलनाडु तथा कर्नाटक जल उपलब्ध कराने को लेकर जो आंकड़ा वैज्ञानिक आधार पर प्रस्तुत किया गया था उसको लेकर तैयार नहीं हुआ। इसी बीच इस मामले में उच्चतम न्यायालय ने अंतरिम आदेश में संशोधन करते हुए नया फैसला सुनाया।
        
समिति ने अगली बैठक 19 सितंबर को बुलाई है और सभी संबद्ध राज्यों को इस संबंध में आवश्यक सूचना 15 सितंबर तक देने को कहा है। (वार्ता) 



और भी पढ़ें :