1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. प्रादेशिक
  4. Controversial statement of Bihar officer
Written By
Last Updated: गुरुवार, 29 सितम्बर 2022 (16:33 IST)

महिला अधिकारी के विवादास्पद बयान पर नीतीश ने दिए कार्रवाई के संकेत

पटना। स्कूली छात्राओं के लिए मुफ्त सैनिटरी पैड के सवाल पर महिला विकास निगम की महाप्रबंधक हरजोत कौर के मुफ्त निरोध देने संबंधी जवाब से संबंधित एक वीडियो वायरल होने के बाद प्रदेश के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गुरुवार को कहा कि मामले को देखा जा रहा है और कार्रवाई की जाएगी।
 
महिला एवं बाल विकास निगम की ओर से यूनिसेफ 'सेव द चिल्ड्रन' और 'प्लान इंटरनेशनल' के तहत पटना में बुधवार को आयोजित 'सशक्त बेटी समृद्ध बिहार' कार्यक्रम में शामिल एक छात्रा के यह पूछे जाने पर कि पोशाक और छात्रवृति की तरह क्या सरकार स्कूलों में छात्राओं को 20-30 रुपए का मुफ्त सैनिटरी पैड नहीं दे सकती, इस पर कौर ने पूछा कि क्या इस मांग का कोई अंत है?
 
भारतीय प्रशासनिक सेवा की बिहार कैडर की अधिकारी कौर ने कहा कि 20-30 रुपए का सैनिटरी पैड दे सकते हैं। कल जींस-पैंट दे सकते हैं। परसों सुंदर जूते क्यों नहीं दे सकते हैं। नरसों को वो नहीं कर सकते और अंत में परिवार नियोजन की बात आएगी तो निरोध भी मुफ्त में देना पड़ेगा, है न?
 
छात्रा के यह कहे जाने पर कि सरकार के हित में जो है, उसे देना चाहिए? पर कौर ने कहा कि सरकार से लेने के लिए तुम्हें जरूरत क्या है? अपने आपको इतना संपन्न करो। उन्होंने कहा कि यह जो सोच है कि सरकार हमें 20-30 रुपए नहीं दे सकती है, यह गलत है। सरकार बहुत कुछ दे रही है।
 
छात्रा के यह कहे जाने पर कि जब हमसे वोट लेने आते हैं तो उस समय नहीं..., इस पर बीच में ही रोककर कौर ने कहा कि यह बेवकूफी की इंतहा है। मत दो वोट। चली जाओ पाकिस्तान। इस पर छात्रा ने कहा कि मैं हिन्दुस्तान में हूं तो पाकिस्तान क्यों जाऊं? कौर ने छात्रा से पूछा कि वोट क्या तुम पैसों के एवज में देती हो या सुविधाओं के एवज में देती हो? बताओ?
 
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से कौर के बयान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि एक-एक चीज को देख रहे हैं। अगर जरा भी सच्चाई होगी तो कार्रवाई की जाएगी। जन अधिकार पार्टी के संस्थापक और पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव ने ट्वीट कर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से कहा कि नीतीशजी, सरकार की एक वरिष्ठ महिला अधिकारी भाजपा-संघ संक्रमण से संक्रमित है। अपना हक मांगने पर बिहार की बेटियों को पाकिस्तान भेजने की धमकी देती हैं। उन्हें मानसिक संक्रमण से मुक्त करने के लिए 'समुचित प्रशासनिक उपचार' आवश्यक है।Edited by: Ravindra Gupta(भाषा)