CM योगी आदित्‍यनाथ बोले, बहन-बेटियों से छेड़छाड़ करने वालों का होगा 'राम नाम सत्‍य'

हिमा अग्रवाल| Last Updated: रविवार, 13 दिसंबर 2020 (19:34 IST)
हमें फॉलो करें
उत्तरप्रदेश के पुलिस अफसरों को अब राम-राम कहकर किसानों से अभिवादन करना अनिवार्य होगा। ये ऐलान उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री ने में किसानों की रैली में किया है। आज कृषि विश्वविद्यालय में कृषि शिक्षा और विकास से जुड़ी 88 योजनाओं की शुरुआत करने पहुंचे मुख्यमंत्री ने कहा कि के जरिए देश विरोधी ताकतें किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर चला रही हैं।
दिल्ली के बार्डर पर चल रहे किसान आंदोलन पर उन्होंने कहा कि किसानों की आड़ में यह एक बड़ी साजिश है। नए किसान कानून को लेकर जनता में जागरूकता फैलाने का बीजेपी का अभियान जारी है। उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तरप्रदेश में किसानों के गढ़ कहे जाने वाले मेरठ से आज इसकी प्रदेश में शुरुआत की है।

सीएम ने कृषि और किसानों से जुड़ी कई करोड़ की योजनाओं की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने किसानों से हर रोज जूझने वाली पुलिस को सफलता का मंत्र दिया है। मुख्यमंत्री ने किसान रैली के मंच से पुलिस अफसरों को आदेश दिया है कि वह किसानों के साथ वार्तालाप से पहले राम-राम कहकर अभिवादन करें।

योगी ने किसानों को अन्नदाता कहते हुए भाषण में कहा कि मेरठ की धरती स्वाधीनता आंदोलन की धरती है, क्रांति का बिगुल बजाने वाला मेरठ है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों ने अथक परिश्रम से भारत को खाद्यान क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। किसान जब सावन में कावड़ यात्रा पर झूमते-गाते निकलता है तो उसे देखकर मुझे अलग ही अनुभूति होती है।

इसलिए सरकार ने फैसला किया है कि गंग नहर किनारे एक अतिरिक्त लेन बनाकर उसको किसानों को समर्पित कर दिया जाएग। यह लेन 600 करोड़ मूल्य की लागत से बनेगी और उसका नाम चौधरी चरण सिंह मार्ग रखा जाएगा।

मेरठ में सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा, बेटियों की सुरक्षा में सेंध लगाने वालों को सबक सिखाने के लिए राम नाम सत्य है यात्रा निकलनी चाहिए। किसान भाई अभिवादन में कम से कम दो बार राम-राम कहें तो देश के दुश्मन कमजोर होंगे।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए योगी बोले कि विपक्षी पार्टियां देश का विकास नहीं चाहती हैं, तभी तो वह विकास में समय-समय पर मुश्किल पैदा करते रहते हैं। भारत के दुश्मन तो अब घबरा ही रहे हैं, लेकिन विदेशी झूठन से पलने वाले षडयंत्र से बाज नही आ रहे हैं। हमारे किसान खेतों में मेहनत कर गन्ना उपजा रहे हैं, प्रदेश और देश में धूम है यहां के उत्पादन की।

अब सरकार किसानों को नई तकनीक सिखाएगी, जिससे मेहनती किसान सोना पैदा करेगा। चीनी की जितनी जरूरत देश-दुनिया में होगी, उतना उत्पादन करेगा, देश में एथेनॉल बनाएंगे। जो पैसा खाड़ी देशों को जाता है वो अपने देश में प्लांट लगने के बाद नहीं जाएगा। सरकार ने एथेनॉल के प्लांट लगाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

मोदी जी तकनीक के माध्यम से देश को जोड़ रहे हैं, जिससे विपक्षी परेशान हैं। मोदी जी के आने के बाद गरीबों के लिए योजनाएं बनाई गई हैं। मेरठ का व्यक्ति नौजवान, श्रीनगर में कोठी खरीद सकता है जिसे कांग्रेस ने वंचित किया था। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने 500 वर्षों की समस्या का समाधान कर अयोध्या में मंदिर बनाने का कार्य किया। मुख्यमंत्री बोले कि वामपंथी किसान की समृद्धि नहीं चाहते और न गरीब के चहरे पर मुस्कान।

सीएम ने वेस्ट उत्तरप्रदेश के किसानों को रिझाने के लिए कहा कि दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन की शुरुआत पश्चिमी उत्तरप्रदेश से हुई और पहला जत्था भी यहीं से निकला है। किसानों और सरकार के बीच कृषि कानून को लेकर पनप रहे विरोध को कम करने के लिए मुख्यमंत्री ने मोदी और योगी सरकार की अब तक की कामयाबियों को गिनवाया।

योगी ने कहा, राम मंदिर और कश्मीर में धारा 370 मुद्दा भी किसानों का ही बताया। मुख्यमंत्री ने किसानों को मसीहा बताते हुए किसानों के कल्याण को लेकर सरकार की तमाम योजनाओं के प्रस्ताव भी जनता के सामने रखे। योगी ने कहा कि किसान आंदोलन एक साजिश का हिस्सा है। आंदोलन के जरिए विरोधी भारत के टुकड़े-टुकड़े करना चाहते हैं, इसलिए किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर देश विरोधी ताकतें देश की सुरक्षा में सेंध लगाने की कोशिश कर रही हैं।



और भी पढ़ें :