उत्तराखंड में उपचुनाव की घोषणा से पूर्व ही चंपावत में हुंकार भरने लगे मुख्यमंत्री धामी

एन. पांडेय| Last Updated: गुरुवार, 28 अप्रैल 2022 (22:31 IST)
हमें फॉलो करें
देहरादून। मुख्यमंत्री रहते अपनी विधानसभा सीट जीतने में नाकाम रहे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अब से उप चुनाव लड़ने के लिए कमर कस ली है। इस बार वे इस चुनाव को लेकर कोई रिस्क नहीं लेना चाहते हैं। यही कारण है कि वे चुनाव की घोषणा से पहले ही प्रचार में जुट गए हैं।
अपने का आगाज करते हुए धामी ने गुरुवार को रोड शो करते हुए कहा कि उन्हें मां पूर्णागिरि और मां शारदा ने इस क्षेत्र में बुलाया है।उन्होंने कहा कि चंपावत को कृषि, बागवानी एवं चाय की उन्नत खेती के लिए विकसित किया जाएगा। आने वाले समय में चंपावत जिला विकास के नए आयाम स्थापित करेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तराखंड से विशेष लगाव है। उनके मार्गदर्शन में राज्य में अनेक जन कल्याणकारी योजनाएं संचालित हो रही हैं। चंपावत से महज डेढ़ घंटे की दूरी पर एम्स का सैटेलाइट सेंटर स्थापित होगा। टनकपुर-बागेश्वर रेल लाइन के सर्वे के लिए भी 29 करोड़ की स्वीकृति मिल चुकी है। खटीमा बायपास बनने से चंपावत पिथौरागढ़ के लोगों का समय भी बचेगा और सफर भी सुगम होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जल्द ही समान नागरिक संहिता लागू करने के लिए ड्राफ्ट तैयार किया जाएगा। गरीब परिवारों को साल में तीन मुफ़्त गैस सिलेंडर दिए जाएंगे। प्रदेश में भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए राज्य सरकार ने 1064 टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर जारी किया है।

राज्य सरकार जन समस्याओं के त्वरित समाधान के लिए सरलीकरण, समाधान और निस्तारण के मंत्र पर कार्य कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अपने दूसरे कार्यकाल में सरकार ने वृद्धावस्था पेंशन, दिव्यांग पेंशन और पर्यावरण मित्रों का मानदेय बढ़ाने का काम किया है।जनता से किए हर वादे को पूरा करने के लिए राज्य सरकार कृत संकल्पित है।

धामी ने इस अवसर पर घोषणा की कि जनपद चंपावत के विभिन्न क्षेत्रों में ओलावृष्टि से फसल को हुए नुकसान की भरपाई आपदा मद से की जाएगी। चंपावत विधानसभा के अंतर्गत टनकपुर में शारदा नदी के दाएं व बाएं पार्श्व पर स्थित ग्राम कठौल एवं किचैल में बाढ़ सुरक्षा का कार्य किया जाएगा। उचौली गोठ से गैडाख्याली नंबर 1 तक शारदा नदी की मुख्यधारा में चैनलाइजेशन का कार्य किया जाएगा।

चंपावत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए जिले में जिम कार्बेट ट्रेल का निर्माण कराया जाएगा। जनपद चंपावत के टीआरसीएस का निर्माण एवं नगर पंचायत बनबसा के क्षेत्रान्तर्गत वार्ड नं-4 के निकट खाली पड़ी भूमि पर पार्क का निर्माण कार्य किया जाएगा। कार्यक्रम में सांसद अल्मोड़ा अजय टम्टा, निवर्तमान विधायक कैलाश गहतोड़ी समेत बड़ी संख्या में स्थानीय जनता मौजूद थी।

उत्तराखंड के जंगलों में आग :उत्तराखंड के जंगलों में आग की घटनाओं को देखते हुए वन विभाग के अधिकारी सरकार से वायुसेना के हेलीकॉप्टर के जरिए पानी का छिड़काव करने की मांग कर रहे हैं, तो वनमंत्री हेलीकॉप्टर के पंखों की हवा से आग और बढ़ने की बात कहकर इससे परहेज करने की बात कह रहे हैं।

लेकिन इस बीच उत्तराखंड के जंगलों की धधकती आग अब उत्तराखंड के स्कूलों तक पहुंचने लगी है। ऐसी तीन घटनाएं अब तक सामने आ चुकी हैं।चमोली के राजकीय इंटर कॉलेज केदारुखाल, कोटद्वार के राजकीय प्राथमिक विद्यालय चाड़ा खाल, पौड़ी के घुड़दौड़ी कॉलेज परिसर में आग का विकराल रूप देखने को मिला है।घटनाएं रात में होने के कारण कोई हताहत नहीं हुआ लेकिन स्कूल की संपत्ति को नुकसान पहुंचा है।

इन घटनाओं के बाद जिलों के शिक्षा अधिकारियों और प्रधानाचार्यों को शिक्षा विभाग ने विद्यालयों के आसपास साफ-सफाई करवाने के निर्देश दिए हैं ताकि आग इन स्कूलों तक न पहुंच सके, लेकिन शिक्षा विभाग और शासन की ओर से छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के लिए किसी प्रकार के पुख्ता इंतजाम अब भी नहीं किए गए हैं।

उत्तराखंड में 15 फरवरी से अब तक 1443 वनाग्नि की घटनाएं सामने आ चुकी हैं।इसमें 2432.62 हेक्टेयर वन संपदा को नुकसान हो चुका है।वनाग्नि में 5 लोग अभी तक घायल हो चुके हैं, जबकि एक की मौत हुई है।



और भी पढ़ें :