उत्तराखंड सरकार ने ली राहत की सांस, तीर्थ पुरोहितों ने किया केदार कूच का फैसला स्थगित

एन. पांडेय| Last Updated: बुधवार, 3 नवंबर 2021 (12:34 IST)
प्रमुख बिंदु
  • उत्तराखंड सरकार ने ली राहत की सांस
  • तीर्थ पुरोहितों ने किया केदार कूच का फैसला स्थगित
  • 30 नवंबर तक देवस्थानम एक्ट भंग होगा
देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के केदारनाथ दौरे से ठीक पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी केदारनाथ पहुंचकर तीर्थ पुरोहितों से बंद कमरे में बात कर रहे हैं। पीएम मोदी के दौरे को लेकर बातचीत चल रही है, वहीं सेवानिवृत्त कर्नल अजय कोठियाल भी केदारनाथ पहुंच चुके हैं। मोदी 5 नवंबर को में आदिशंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। इसके साथ ही वे धाम में चल रहे पुनर्निर्माण कार्यों का भी जायजा लेंगे।मोदी यहां करीब 3.30 घंटे तक रहेंगे।

कार्यक्रम के मुताबिक मोदी सुबह 7.30 बजे धाम में पहुंचेंगे और करीब 11 बजे लौट जाएंगे। इस अवसर के लिए उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड की ओर से मंदिर को फूलों से सजाया जा रहा है।

केदारनाथ आए मुख्यमंत्री के साथ मौजूद कैबिनेट मंत्री डॉ. हरकसिंह रावत ने राज्य सरकार की ओर से भगवान की कसम खाकर पुरोहितों को आश्वासन दिया है कि 30 नवंबर तक देवस्थानम एक्ट भंग कर दिया जाएगा।
को सरकार ने तीर्थ पुरोहितों को शांत कराने की जिम्मेदारी दी है। दूसरी तरफ मुख्यमंत्री के तीर्थ पुरोहितों से मिलने के बाद फिलहाल आज बुधवार को जिस केदार कूच की तैयारी तीर्थ पुरोहित कर रहे थे, उसको स्थगित कर दिया गया है। फिलहाल तो यही लगता है कि तीर्थ पुरोहित मुख्यमंत्री और कैबिनेट मंत्री द्वारा उन्हें दिए आश्वासन से कुछ शांत हो गए हैं और उनका कहना है कि उनका आंदोलन तो जारी रहेगा लेकिन वे अभी विरोध की कार्रवाई से परहेज करेंगे। तीर्थ पुरोहितों के इस रुख के चलते राज्य सरकार और बीजेपी ने राहत की सांस ली है।



और भी पढ़ें :