शिवराज इस्तीफा दें, व्यापम घोटाले की सीबीआई जांच हो: सिंधिया

इंदौर| भाषा| पुनः संशोधित सोमवार, 30 जून 2014 (12:06 IST)
हमें फॉलो करें
FILE
इंदौर। मध्यप्रदेश के (व्यापम) के करोड़ों रुपए के कुख्यात घोटाले में मुख्यमंत्री के मंत्रियों और उनके नजदीकी लोगों के शामिल होने का आरोप लगाते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सूबे के मुखिया से नैतिकता के आधार पर इस्तीफे की मांग की।

सिंधिया ने रविवार रात यहां कहा, ‘मुख्यमंत्री को नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे देना चाहिए, ताकि व्यापमं घोटाले की निष्पक्ष जांच हो सके। उनके मंत्री और आसपास के लोग इस घोटाले में शामिल हैं।’ पूर्व केंद्रीय मंत्री ने व्यापम घोटाले में प्रदेश पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) की तहकीकात पर सवाल उठाते हुए इस मामले की सीबीआई जांच की मांग भी की।
सिंधिया ने कहा, ‘व्यापम घोटाले की जांच करना एसटीएफ के बस की बात नहीं है। इस मामले की जांच सीबीआई से कराई जानी चाहिए। पहले इन लोगों (भाजपा नेताओं) को सीबीआई जांच से डर लगता था। लेकिन अब उन्हें सीबीआई से व्यापम घोटाले की जांच कराने में किस बात की हिचक है।’


सिंधिया ने कहा कि प्रदेश सरकार के जिम्मेदार लोगों को व्यापम घोटाले की गड़बड़ियों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए और इस मामले में पूरी पारदर्शिता के साथ सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार को महंगाई, रेलवे किराए और महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों में कथित इजाफे पर भी घेरा।

उन्होंने बलात्कार के आरोप से घिरे केंद्रीय मंत्री निहाल चंद मेघवाल की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘जिन लोगों पर महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के आरोप लग रहे हैं, वे आज केंद्रीय मंत्रिमंडल में बैठे हैं। भाजपा की कथनी और करनी में इतना अंतर क्यों है।’ वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा, ‘चुनाव से पहले भाजपा की ओर से कहा जाता था कि अच्छे दिन आने वाले हैं। लेकिन मैं मोदी सरकार के 30 दिन के कार्यकाल के आधार पर एक नागरिक के रूप में कह रहा हूं कि यह सरकार जनता की आशाओं पर पूरी तरह खरी नहीं उतर सकी है।’ (भाषा)



और भी पढ़ें :