मंगलवार, 27 फ़रवरी 2024
  • Webdunia Deals
  1. धर्म-संसार
  2. व्रत-त्योहार
  3. राम नवमी
  4. What to eat and not to eat on Ram Navami
Written By

राम नवमी के दिन क्या खाएं और क्या नहीं?

राम नवमी के दिन क्या खाएं और क्या नहीं? - What to eat and not to eat on Ram Navami
श्रीराम का जन्म चैत्र माह की नवरात्रि की नवमी को हुआ था। इस दिन सभी घरों में माता दुर्गा की पूजा और व्रत के पारण के साथ ही रामजी के बाल रूप की पूजा भी होती है।

नवमी तिथि का शास्त्रों में बहुत महत्व बताया गया है। चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी को राम नवमी के रूप में उत्साह और हर्ष उल्लास के साथ मनाया जाता है। इस दिन भगवान श्रीराम का पूजन और वंदन करने से सुख, समृद्धि और शांति बढ़ती है। साथ ही संतान सुख की प्राप्ति होती है। 
 
आओ जानते हैं कि राम नवमी के दिन क्या खाएं और क्या नहीं खाएं- 
 
श्रीराम नवमी के दिन क्या नहीं खाएं : 
 
- नवमी के दिन लौकी खाना निषेध है, क्योंकि इस दिन लौकी का सेवन गौ-मांस के समान माना गया है।
 
- यह बहुत ही महत्वपूर्ण और पवित्र दिन है। इस दिन बैंगन, कटहल, प्याज, लहसुन और किसी भी प्रकार का तामसिक भोजन नहीं करना चाहिए।
 
श्रीराम नवमी पर क्या खाएं : 
 
- इस दिन कढ़ी, पुरणपोली खाएं।
 
- इस दिन खीर, पूरी, साग, भजिए का सेवन करें।
 
- इस दिन हलवा, कद्दू या आलू की सब्जी बनाई जा सकती है। 
 
- इस दिन माता दुर्गा और श्रीराम को भोग लगाने के बाद ही भोजन किया जाता है।
 
- इस दिन प्रसाद में विशेष तौर पर पंजीरी बनाई जाती है।
 
नवमी तिथि की विशेषता : 
 
1. नवमी तिथि चंद्र मास के दोनों पक्षों में आती है। इस तिथि की स्वामिनी देवी माता दुर्गा है। यह तिथि रिक्ता तिथियों में से एक है। रिक्ता अर्थात खाली। इस तिथि में किए गए कार्यों की कार्यसिद्धि रिक्त होती है। यहीं कारण है कि इस तिथि में समस्त शुभ कार्य वर्जित माने गए हैं। मात्र माता या श्रीराम की पूजा ही फलदायी होती है।
 
2. यह तिथि चैत्र माह में शून्य संज्ञक होती है और इसकी दिशा पूर्व है। शनिवार को सिद्धदा और गुरुवार को मृत्युदा मानी गई है। अर्थात शनिवार को किए गए कार्य में सफलता मिलती है और गुरुवार को किए गए कार्य में सफलता की कोई गारंटी नहीं। इस बार राम नवमी या दुर्गा नवमी दिन गुरुवार, 30 मार्च 2023 को है। 

 
ये भी पढ़ें
Ram Navami 2023 : प्रभु श्रीराम के जन्म संबंधी 5 रोचक बातें