डिलेवरी बॉय के गैर हिन्दू होने से खाना लेने से किया मना, सोशल मीडिया पर छिड़ी जंग

Last Updated: गुरुवार, 1 अगस्त 2019 (12:34 IST)
जबलपुर। ऑनलाइन बुकिंग के बाद घर भेजे गए खाने को लेने से युवक ने इसलिए मना कर दिया क्योंकि गैर हिन्दू था। इसके बाद इस विवाद ने सोशल मीडिया पर एक जंग छेड़ दी। विवाद इतना बढ़ गया है कि अब इस पर बड़ी और जानी-मानी हस्तियां भी सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दे रही हैं।
क्या था मामला : के रहने वाले अमित शुक्ला ने जोमैटो से ऑनलाइन ऑर्डर कर खाना मंगाया, लेकिन सावन के महीने में मुस्लिम डिलेवरी बॉय के हाथ से खाना लेने से मना कर दिया। इसके बाद अमित शुक्ला ने ट्वीट किया कि मैंने अभी जोमैटो से किया एक ऑर्डर कैंसिल किया है क्योंकि वो मेरा खाना गैर से भेज रहे थे और उन्होंने राइडर चेंज करने के लिए भी कहा और मेरा पैसा भी वापस नहीं कर रहे थे। मैंने उनसे कहा कि वे मुझे खाना लेने के लिए मजबूर नहीं कर सकते हैं, मुझे मेरा पैसा वापस नहीं चाहिए।
सोशल मीडिया पर आग की तरह फैला ट्‍वीट : यह ट्वीट सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल गया। इस ट्वीट का जोमैटो ने जो जवाब दिया, उसकी सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ होने लगी।

जोमैटो ने जवाब में लिखा कि खाने का कोई धर्म नहीं होता, खाना अपने आपमें एक धर्म है। मामले को तूल पकड़ता देख जोमैटो के मालिक दीपेंद्र गोयल ने भी ट्वीट किया कि हमें गर्व है भारत के इस विचार पर, हमारे जो अलग-अलग ग्राहक हैं और हमारे जो अलग-अलग साथी हैं, उनकी विविधताओं पर भी हमें खुशी है और अगर हम अपना कोई नुकसान मूल्यों को खोकर करते हैं तो हमें ऐसे नुकसान की कोई परवाह नहीं है।
नेताओं ने सोशल मीडिया पर
दी
प्रतिक्रिया :
कांग्रेस के बड़े नेता पी. चिदंबरम ने जोमैटी के समर्थन में ट्वीट किया। चिदंबरम ने लिखा कि मैंने अभी तक जोमैटो से खाने का ऑर्डर नहीं दिया है लेकिन अब मैं सोच रहा हूं कि अब जोमैटो से ही खाने का ऑर्डर करूंगा।

बीजेपी नेता ने किया कटाक्ष : चिदंबरम के ट्‍वीट पर बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल बग्गा ने कटाक्ष करते हुए लिखा कि वे (जोमैटो) जेल में डिलीवरी नहीं करते।
पूर्व निर्वाचन आयुक्त ने बताया हीरो : पूर्व निर्वाचन आयुक्त एसवाई कुरैशी ने जोमैटो के मालिक दीपेंद्र गोयल को भारत का असली हीरो बताया। उन्होंने लिखा कि दीपेंद्र गोयल को सलाम, आप भारत के असली हीरो हैं। आप पर गर्व है।



और भी पढ़ें :