Corona प्रोटोकॉल के तहत संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली सीसीपीए ने संसद के शीतकालीन सत्र के लिए 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक की तारीख की सिफारिश की है। संसद के दोनों सदनों- राज्यसभा और लोकसभा की कार्यवाही साथ-साथ चलेगी और सांसदों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन

parliament
पुनः संशोधित सोमवार, 8 नवंबर 2021 (17:06 IST)
नई दिल्ली। संसदीय मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति (CCPA) ने का आयोजित करने की सिफारिश की है।


सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पिछले डेढ़ साल में हुए संसद सत्रों की तरह शीतकालीन सत्र भी कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए आयोजित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सत्र के दौरान करीब 20 बैठकें होंगी।

कोविड-19 महामारी के चलते पिछले साल संसद का शीतकालीन सत्र नहीं हुआ था और बजट सत्र तथा मानसून सत्र को भी संक्षिप्त कर दिया गया था।

23 दिसंबर तक चलेगा सेशन : एक सूत्र ने बताया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली ने संसद के शीतकालीन सत्र के लिए 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक की तारीख की सिफारिश की है। संसद के दोनों सदनों- राज्यसभा और लोकसभा की कार्यवाही साथ-साथ चलेगी और सांसदों को सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना होगा।
यह सत्र इसलिए भी मायने रखता है क्योंकि इसका आयोजन राजनीतिक रूप से काफी महत्वपूर्ण माने जाने वाले उत्तर प्रदेश सहित 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले हो रहा है।

इन मुद्दों पर सरकार को घेरेगा विपक्ष : महंगाई, ईंधन की कीमतों में वृद्धि, खाद्य तेल की कीमतों में वृद्धि, कश्मीर में आम लोगों पर आतंकवादियों के हमले, किसानों की जान लेने वाली लखीमपुर खीरी हिंसा तथा केंद्र के तीन विवादास्पद कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन उन मुद्दों में शामिल हैं, जिन्हें शीतकालीन सत्र के दौरान सरकार को घेरने के लिए विपक्ष द्वारा उठाए जाने की संभावना है।
संसद का मानसून सत्र विपक्ष के हंगामे से प्रभावित रहा था, जिसने सरकार से पेगासस जासूसी मुद्दे पर जवाब मांगा था और तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की थी।



और भी पढ़ें :