ममता ने भाजपा को उग्रवादी संगठन बताया, लगाया धार्मिक आधार पर लोगों को बांटने का आरोप

कोलकाता| पुनः संशोधित शुक्रवार, 22 जून 2018 (08:26 IST)
कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने भाजपा को बताया जो लोगों को धार्मिक आधार पर बांटने में लगी हुई है। उन्होंने चुनौती दी कि भाजपा उनकी पार्टी पर हमला करके दिखाए।

भगवा पार्टी की आलोचक रहीं ममता ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा राज्य में वोट हिस्सा बढ़ाने के लिए ईवीएम से छेड़छाड़ कर रही है। उन्होंने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से अपील की कि अगले लोकसभा चुनाव की तैयारियां करें क्योंकि इस पर पूरे देश की नजर है।

उन्होंने कहा, 'हम भाजपा की तरह उग्रवादी संगठन नहीं हैं। वे अहंकारी और असहिष्णु हैं। वे धार्मिक रूप से पक्षपाती हैं। वे मुस्लिमों, ईसाइयों, सिखों को पसंद नहीं करते -- वे हिंदुओं में भी अगड़ी जाति और पिछड़ी जाति के लोगों के बीच भेदभाव करते हैं।'

भाजपा पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा, 'वे मुठभेड़ की धमकी दे रहे हैं। चूंकि वे दिल्ली में सत्ता में हैं इसलिए वे बम बरसाने की बातें करते हैं। मैं उन्हें चुनौती देती हूं कि आएं और हमें छूकर दिखाएं। हम उन्हें औकात बता देंगे।'


पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि उनकी पार्टी लोकतंत्र में विश्वास करती है लेकिन तृणमूल कांग्रेस विश्वास नहीं करती। उन्होंने आरोप लगाए कि उसने राज्य में पंचायत चुनावों में निष्पक्ष एवं स्वतंत्र मतदान नहीं होने दिए।
घोष ने मंगलवार को कहा था कि अगर उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर तृणमूल कांग्रेस के लोग हमला करते हैं तो वे बर्दाश्त नहीं करेंगे। उन्होंने जवाबी हमले की धमकी दी थी।

भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो तुष्टिकरण की राजनीति की चैंपियन हैं। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी तुष्टिकरण की राजनीति की चैंपियन हैं और उनके शासनकाल में राज्य में पूरी तरह अराजकता और अव्यवस्था है।

उन्होंने सवाल किया कि ममता बनर्जी कौन होती हैं किसी को चरित्र प्रमाण पत्र देने वाली। भाजपा नेता ने कहा कि राज्य के लोग अगले चुनाव में उन्हें सबक सिखाएंगे।

विजयवर्गीय ने कहा कि आक्षेप लगाने के बजाए उन्हें इस तथ्य को देखना चाहिए कि राज्य राजनीतिक हत्याओं का गढ़ बन गया है। नैतिक आधार पर उन्हें पद छोड़ देना चाहिए।

भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी आरोप लगाए कि ममता बनर्जी नीत तृणमूल अराजकतावादियों का स्वर्ग बन गया है। उन्होंने कहा कि राज्य में कानून - व्यवस्था नहीं है। वहां पूरी तरह अराजकता है। इसलिए पहले अपना घर ठीक कीजिए और फिर दूसरों के बारे में बात कीजिए।
ममता ने भाजपा, कांग्रेस, माकपा और माओवादियों पर आरोप लगाया कि बंगाल में उन्होंने तृणमूल कांग्रेस के खिलाफ हाथ मिला लिए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में वोट प्रतिशत बढ़ाने के लिए भगवा दल ईवीएम से छेड़छाड़ कर रहा है।

उन्होंने कहा, 'मतदाता सूची के पुनरीक्षण का काम शुरू हो गया है। सुनिश्चित करिए की प्रक्रिया का पालन किया जाए। ईवीएम से छेड़छाड़ करना भाजपा की आदत है। हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं को सतर्क रहना चाहिए और उनकी निगरानी करनी चाहिए।' (भाषा)



और भी पढ़ें :