उत्तर भारत में ठंड का कहर, दिल्ली घने कोहरे की चपेट में

Last Updated: रविवार, 16 जनवरी 2022 (11:34 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। उत्तर भारत के पहाड़ी और मैदानी इलाकों में शनिवार को भी ठंड का कहर दिखाई दिया। जम्मू कश्मीर, पंजाब, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड आदि राज्य की चपेट में है।


भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर, पंजाब, हरियाणा, उत्तरप्रदेश एवं उत्तरी राजस्थान में मध्यम या हल्के बादल छाये रहे। उसने सूर्य की किरणों को धरती की सतह तक पहुंचने नहीं दिया। इस क्षेत्र में हल्का पश्चिमी विक्षोभ भी चल रहा है। इन कारणों से दिन ठंडा रहा। रविवार को भी ऐसा ही मौसम रहने की संभावना है।

कश्मीर में 21 दिसबंर से जारी चिल्लई कलां की वजह से भारी बर्फबारी हो रही है। मौसम विभाग ने आज भी यहां बर्फबारी की चेतावनी जारी की है।
दिल्ली में लगातार दूसरे दिन शनिवार को कड़ाके की सर्दी रही और 14.8 डिग्री सेल्सियस के साथ अधिकतम तापमान इस मौसम के सबसे निचले स्तर पर रहा। दिन में घने कोहरे के कारण सूर्य भी नहीं निकला। मौसम विभाग के अनुसार अगले 4 दिनों तक दिल्ली में घने से मध्यम कोहरा छाये रहने की संभावना है।


राजस्थान के कई हिस्सों में कड़ाके की सर्दी और कोहरे का प्रकोप जारी है। राज्य के कुछ हिस्सों में कड़ाके की सर्दी और कोहरे से आम जनजीवन प्रभावित हुआ है।

राज्य के एकमात्र पर्वतीय पर्यटक स्थल माउंट आबू में रात का तापमान पिछले तीन चार दिनों से शून्य से नीचे दर्ज किया गया। यहां शनिवार रात का तापमान शून्य से तीन डिग्री नीचे दर्ज किया गया। मैदानी इलाकों में करौली राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा जहां रात का तापमान 2.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
वहीं, धौलपुर में न्यूनतम तापमान 2.7 डिग्री सेल्सियस, सीकर के फतेहपुर में 3.1 डिग्री, नागौर में 3.3 डिग्री, सीकर में 4.4 डिग्री, टोंक के वनस्थली में 4.5 डिग्री, अजमेर में 4.7 डिग्री, चूरू में 5.5 डिग्री, राजधानी जयपुर में छह डिग्री और जैसलमेर में सा डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

विभाग ने रविवार को झुंझुनूं, सीकर जिलों में शीतलहर का अलर्ट जारी किया है। वहीं, जयपुर, अलवर, भरतपुर, दौसा, धौलपुर, अजमेर, चित्तौड़गढ़, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, चूरू, बीकानेर में भी शीतलहर और कोहरे की संभावना जताई है।
आईएमडी के अनुसार, शून्य से 50 मीटर के बीच दृश्यता होने पर कोहरा ‘बेहद घना’, 51 से 200 मीटर दृश्यता के बीच ‘घना’, 201 से 500 के मीटर दृश्यता के बीच ‘मध्यम’ और 501 से 1000 के बीच दृश्यता होने पर कोहरे को ‘हल्का’ माना जाता है।

शून्य से 50 के बीच एक्यूआई को 'अच्छा', 51 और 100 के बीच 'संतोषजनक', 101 और 200 के बीच 'मध्यम', 201 और 300 के बीच 'खराब', 301 और 400 के बीच 'बहुत खराब' और 401 और 500 के बीच 'गंभीर' श्रेणी में माना जाता है।



और भी पढ़ें :