कौए की चतुराई, मगर इस बार प्यास नहीं भूख मिटाई...

पुनः संशोधित सोमवार, 13 सितम्बर 2021 (20:00 IST)
बचपन से ही किताबों में एक कहानी ‍बताई जाती है, जिसका शीर्षक होता है 'प्यासा कौआ'। यह कौआ मटके में बार-बार लाकर कंकर डालता है और पानी ऊपर आ जाता है, इसके चलते कौआ अपनी चोंच डुबाकर प्यास बुझा लेता है।
लेकिन, इस बार कहानी में ट्‍विस्ट है। इस आधुनिक कौए ने प्यास न बुझाकर भूख मिटाई है। यहां मिट्‍टी का मटका नहीं बल्कि एक कांच का गिलास है। दरअसल, सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वहीं से यह कहानी चर्चा में आई है।

संभवत: कांच के एक गिलास में ऐसा कुछ रखा हुआ है, जिसे वह कौआ खाना चाहता है। आड़े पड़े हुए इस‍ गिलास में पड़े टुकड़े को हासिल करने के लिए यह कौआ जतन करता है। कहीं से वह एक पतली लकड़ी का टुकड़ा लाता है और उसे अपनी चोंच से पकड़कर गिलास में डालता है। गिलास के अंदर का वह टुकड़ा थोड़ा हिलता है। कौआ चोंच डालता है, लेकिन उस टुकड़े तक पहुंच नहीं बना पाता।

कौआ हिम्मत नहीं हारता। एक बार फिर वह लकड़ी के टुकड़े को उठाता है और फिर से गिलास में डालता है। गिलास में पड़ी वस्तु हिलकर थोड़ी आगे की ओर आ जाती है।

कौआ फिर चोंच गिलास में डालता है। उसे वह टुकड़ा हासिल करने में सफलता मिल जाती है। हालांकि उस टुकड़े से कौए की भूख मिटी या नहीं यह तो नहीं पता, लेकिन कौए ने एक बार फिर साबित कर दिया कि पक्षियों में सबसे चतुर वही होता है।



और भी पढ़ें :