श्रम मंत्रालय का स्पष्टीकरण, सरकार का न्यूनतम वेतन तय करने में देरी का कोई इरादा नहीं

Last Updated: शनिवार, 19 जून 2021 (15:56 IST)
नई दिल्ली। ने कहा है कि सरकार का और राष्ट्रीय न्यूनतम मजदूरी तय करने में विलंब का कोई इरादा नहीं है। इस तरह कि खबरें आई थीं कि इस मुद्दे पर 3 साल के कार्यकाल वाले विशेषज्ञ समूह के गठन का मकसद न्यूनतम वेतन और राष्ट्रीय न्यूनतम वेतन तय करने में विलंब करना है। इन खबरों के बाद मंत्रालय ने शनिवार को यह दिया है।
ALSO READ:
दिल्ली में मजदूरों को तोहफा, 55 लाख श्रमिकों को होगा फायदा

इससे पहले इसी महीने मंत्रालय ने घोषणा की थी कि केंद्र ने इस मुद्दे पर प्रसिद्ध अर्थशास्त्री अजित मिश्रा की अगुवाई में एक विशेषज्ञ समूह का गठन किया है। यह समूह न्यूनतम वेतन और मजदूरी तय करने के लिए तकनीकी जानकारी और सिफारिशें देगा। विशेषज्ञ समूह का कार्यकाल 3 साल का है।
मंत्रालय ने कहा कि मीडिया के कुछ वर्गों में इस तरह की खबरें आई हैं कि अंशधारकों का मानना है कि यह सरकार द्वारा न्यूनतम वेतन और राष्ट्रीय न्यूनतम मजदूरी तय करने में देरी का प्रयास है। मंत्रालय ने कहा कि हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि सरकार की ऐसी कोई मंशा नहीं है। विशेषज्ञ समूह जल्द से जल्द सरकार को अपनी सिफारिशें सौंपेगा।(भाषा)



और भी पढ़ें :