बरामद IED में RDX, अमोनियम नाइट्रेट और टाइमर लगे थे, गाजीपुर मामले में NSG ने किया खुलासा

Last Updated: सोमवार, 17 जनवरी 2022 (22:04 IST)
नई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) ने को सूचित किया है कि हाल ही में फूल मंडी से बरामद आईईडी में एक उपकरण लगा हुआ था और इसमें तथा मौजूद थे। आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी।
संघीय आतंकवाद-निरोधक कमांडो बल ने 14 जनवरी को यहां बरामद किए गए विस्फोटक पदार्थ को जांच के लिए हरियाणा के मानेसर स्थित अपने राष्ट्रीय बम डेटा केंद्र (एनबीडीसी) के विशेषज्ञों को भेजा था।

सूत्रों ने कहा कि विस्फोट-उपरांत अंतिम जांच रिपोर्ट दिल्ली पुलिस को सौंप दी गई है। इसमें कहा गया है कि आईईडी में अमोनियम नाइट्रेट, आरडीएक्स, नौ वोल्ट की एक बैटरी, लोहे के छोटे-छोटे टुकड़े थे, जो विस्फोट के दौरान छर्रे की तरह काम कर सकते थे और टाइमर उपकरण लगा था।

उन्होंने जांच रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि आरडीएक्स का इस्तेमाल आईईडी में मुख्य विस्फोटक के रूप में किया गया था, लेकिन सर्किट में गड़बड़ के कारण यह नहीं फटा। बल ने करीब तीन किलो के आईईडी को निष्क्रिय कर दिया था, जिसे लोहे के बक्से में रखा गया था और काले बैग में छिपाया गया था।

फूल मंडी में एक गड्ढा खोदा गया था और एनएसजी कर्मियों द्वारा नियंत्रित विस्फोट प्रक्रिया के तहत आईईडी को नष्ट कर दिया गया था। इस घटना को दिल्ली पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों ने बहुत गंभीरता से लिया है, क्योंकि यह 26 जनवरी को होने वाले गणतंत्र दिवस समारोह से कुछ दिन पहले हुआ था, जिसके लिए राष्ट्रीय राजधानी में सुरक्षा तंत्र हाईअलर्ट पर है।(भाषा)



और भी पढ़ें :