पीएनबी घोटाले में किसी को बख्शा नहीं जाएगा : प्रसाद

Last Updated: शुक्रवार, 16 फ़रवरी 2018 (10:05 IST)
हमें फॉलो करें
नई दिल्ली। कानून मंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता ने के करीब 11,400 करोड़ रुपए के घोटाले के आरोपी नीरव मोदी को द्वारा 'छोटा मोदी' करार दिए जाने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए गुरुवार को कहा कि इस घोटाले में किसी को बख्शा नहीं जाएगा और त्वरित कार्रवाई की जाएगी।

प्रसाद ने कांग्रेस प्रवक्ता के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि कांग्रेस ने बेवुनियाद आरोप लगाए हैं। 'छोटा मोदी' कौनसा शब्द है। देश के करोड़ों लोगों के उपनाम 'मोदी' हैं। सिर्फ किसी का उपनाम 'मोदी' होने पर उसको लेकर प्रधानमंत्री पर हमला अस्वीकार्य है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की पीड़ा को वह समझते हैं। वह बार-बार हार रही है और अब त्रिपुरा में भी हारने जा रही है।

उन्होंने कहा कि पीएनबी घोटाले में त्वरित कार्रवाई की जा रही है और आज की गई छापेमारी में 1,300 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त की गई है। नीरव मोदी का पासपोर्ट रद्द करने की प्रक्रिया जारी है और लुकआउट नोटिस भी जारी किया जा रहा है।

भाजपा नेता ने विजय माल्या द्वारा ऋण के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को लिखे गए धन्यवाद पत्र का हवाला देते हुए कहा कि ऋण दिलाने में मदद के लिए यह पत्र लिखा गया था। अब मोदी सरकार माल्या के विरुद्ध कार्रवाई कर रही है और केन्द्रीय जॉच ब्यूरो (सीबीआई) निष्पक्ष होकर कार्रवाई कर रहा है। माल्या के विरुद्ध कार्रवाई में कोई कमी नहीं है।

दावोस में इस वर्ष संपन्न विश्व आर्थिक मंच की वार्षिक बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ समूह फोटो में नीरव मोदी की मौजूदगी को लेकर कांग्रेस द्वारा उठाए गए सवाल का जवाब देते हुए प्रसाद ने कहा कि नीरव मोदी दावोस में प्रधानमंत्री प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा नहीं था। वह भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा था।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस को फोटो की राजनीति बंद कर देनी चाहिए, नहीं तो कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के गीताजंलि जेम्स के मेहुल चौकसी के साथ भी अंतरंग तस्वीर मौजूद है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 में राजधानी में इम्पीरियल होटल में नीरव मोदी के ब्राइडल शो में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी गए थे। कांग्रेस के कई नेताओं के संबंध नीरव मोदी से भी हैं।

उन्होंने कहा कि पीएनबी घोटाला वर्ष 2011 में शुरू हुआ था और वर्ष 2011-13 के दौरान मेहुल चौकसी की आय दोगुनी हो गई थी। उन्होंने सवाल किया कि इसमें किसने मदद की थी। प्रसाद ने कहा कि बैंकिंग तंत्र को किसी भी तरह नुकसान नहीं पहुंचाने दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि चाहे वह व्यक्ति कितने भी ऊंचे पद और हैसियत पर क्यों न हो, आरोपियों को बक्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि वह सरकार की ओर से स्पष्ट करना चाहते हैं कि नीरव मोदी को मदद करने के लिए बैंकिंग तंत्र को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति को छोड़ा नहीं जाएगा। (वार्ता)



और भी पढ़ें :