मोदी करेंगे 3 प्रमुख योजनाओं की शुरुआत

नई दिल्ली| पुनः संशोधित शनिवार, 20 जून 2015 (19:30 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशभर की 500 नगर पालिका प्रमुखों को 25 जून को यहां संबोधित करेंगे। इस अवसर पर वह स्मार्ट सिटी और सभी के लिए आवास सहित शहरों के कायाकल्प की तीन प्रमुख योजनाओं की शुरुआत करेंगे।
तीन प्रमुख परियोजनाएं स्मार्ट सिटी, कायाकल्प एवं शहरी रूपांतरण के लिए अटल मिशन (एएमआरयूटी) तथा सभी के लिए आवास जिसका नाम अब प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) रख दिया गया है। इन परियोजनाओं पर कुल चार लाख करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव है।
 
कार्यक्रम में प्रधानमंत्री 500 चुने गए नगर निगम और नगर पालिकाओं के मेयर और चेयरपर्सन को संबांधित करेंगे। इस दौरान वे आने वाली चुनौतियों और उभरते शहरी भारत के बारे में अपने दृष्टिकोण के बारे में बताएंगे। दो दिन चलने वाले इस कार्यक्रम में संबंधित पक्ष और विशेषज्ञ भाग लेंगे।
 
शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू ने कहा, एक साथ अमृत, प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमवाई) तथा स्मार्ट सिटी मिशन की एक साथ शुरुआत होने पर यह देश के शहरी विकास के इतिहास में एक यादगार दिन होगा। 
 
उन्होंने कहा कि इससे समावेशी शहरी विकास के प्रति सरकार का समन्वित रुख प्रतिबिंबित होता है। जहां अमृत से शहरों में मूलभूत ढांचागत सुविधाएं सुनिश्चित होंगी वहीं पीएमएवाई के तहत शहरी गरीबों को अपना मकान उपलब्ध हो सकेगा।
 
शहरी विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार प्रधानमंत्री तीनों शहरी विकास मिशन के लिए संचालन दिशानिर्देश भी जारी करेंगे। इसके अलावा वे ‘प्रतीक चिन्ह और प्रचार पंक्ति को भी जारी करेंगे।
 
वेंकैया नायडू ने कहा, दो परियोजनाओं (अमृत और पीएमएवाई) से मौजूदा शहरों को स्मार्ट सिटी बनाने में मदद मिलेगी। स्मार्ट सिटी मिशन के तहत देश के पहचान किए गए 100 शहरों में बेहतर गुणवत्ता की बुनियादी सुविधाओं और स्मार्ट निदान के जरिए सेवाओं में सुधार लाकर जीवन-यापन को बेहतर बनाया जाएगा। इन शहरों में पर्यावरण को साफ और स्वच्छ बनाए रखने पर जोर होगा। 
 
दो दिन तक चलने वाले इस कार्यक्रम में विभिन्न राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के शहरी विकास, नगर पालिका मामलों और आवास विकास मंत्रियों के साथ साथ 500 नगर पालिका परिषदों के निर्वाचित प्रमुख, शहरी मामलों को देखने वाले प्रधान सचिव, नगर पालिकाओं के आयुक्त तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी भाग लेंगे।
 
इनके अलावा अनुसंधान और शिक्षण संस्थानों के प्रतिनिधि, तकनीकी और सहायक एजेंसियों, द्विपक्षीय और बहुपक्षीय संगठनों, शहरी योजनाकार और विशेषज्ञ भी इस कार्यक्रम में भाग लेंगे।
 
सरकार के स्मार्ट सिटी मिशन तथा अन्य विकास प्रयासों में रुचि दिखाने वाले 15 देशों के राजदूत और उच्चायुक्तों को भी इन तीन प्रमुख योजनाओं की शुरुआत के अवसर पर आमंत्रित किया गया है। (भाषा)



और भी पढ़ें :