प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर भड़के सिंधिया, कहा कांग्रेस से पूछो ऐलान में देरी का सवाल

Author विकास सिंह| Last Updated: बुधवार, 18 सितम्बर 2019 (10:24 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर एक बार फिर पार्टी के बड़े नेता और अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार ज्योतिरादित्य सिंधिया की तल्खी सामने आई है। भोपाल पहुंचे सिंधिया से जब मीडिया ने प्रदेश अध्यक्ष के नाम के ऐलान में देरी को लेकर सवाल पूछा तो सिंधिया ने तल्ख तेवर दिखाते हुए कहा कि यह सवाल आप कांग्रेस से पूछिए। इतना कहते हुए सिंधिया आगे बढ़ गए।

मीडिया के सवालों पर
सिंधिया ने कहा कि उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष को लेकर अपना रुख पहले ही साफ कर दिया है। कांग्रेस में अध्यक्ष पद को लेकर मचे घमासान के बीच सिंधिया इन दिनों प्रदेश के दौरे पर हैं। इंदौर ,ग्वालियर के दौरे के बाद मंगलवार को सिंधिया भोपाल पहुंचे जहां उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात की। मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद मीडिया से बात करते हुए सिंधिया ने साफ तौर पर प्रदेश अध्यक्ष को लेकर कुछ भी बोलने से मना कर दिया, लेकिन अध्यक्ष के नाम के ऐलान को लेकर देरी के सवाल पर कहा, इसे कांग्रेस से पूछिए। वहीं सिंधिया ने कहा कि वह इस मामले में निर्णयकार नहीं हैं इसलिए कुछ नहीं बता सकते।
सिंधिया ने कहा कि वह दिसंबर में ही स्पष्ट कर चुके हैं कि वह राजनीति में पद के लिए नहीं बल्कि सेवा के लिए हैं। इससे पहले ऐसी खबरें आई थी कि सिंधिया के नाम पर पार्टी ने अपनी अंतिम मोहर लगा दी है, लेकिन बाद में मुख्यमंत्री कमलनाथ के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद सिंधिया के नाम के ऐलान को रोक लिया गया था।
ALSO READ:
ज्योतिरादित्य सिंधिया हो सकते है एमपी कांग्रेस के नए अध्यक्ष, औपचारिक एलान जल्द




राजनीति नहीं किसानों के मुद्दे पर चर्चा :
मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात के बाद सिंधिया ने कहा कि मध्यप्रदेश में अतिवृष्टि के चलते बाढ़ जैसे हालत बन गए हैं,
इन
हालातों को लेकर और जनता को किस तरह से राहत दी जा सकती है इन सब विषयों पर सीएम कमलनाथ से चर्चा की है।

सिंधिया ने कहा कि किसानों को किस तरह सही मुआवजे दिए जाएं इसको लेकर उनकी मुख्यमंत्री से चर्चा हुई। चर्चा के दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री से निवेदन किया कि जैसे ही बारिश का दौर खत्म हो उसके बाद सर्वे कराकर किसानों को पूरी मदद दी जाए।

इसके लिए कलेक्टर नुकसान को लेकर अपनी जो रिपोर्ट दें उसमें सरकार की तरफ से कोई कटौती नहीं की जाए। इसके साथ ही किसानों को उनकी फसल की पूरी बीमा राशि मिल सके इसके लिए बीमा कंपनियों को सरकार निर्देशित करे। सिंधिया के मुताबिक मुख्यमंत्री ने उन्हें किसानों को हुए नुकसान का
सर्वे सही ढंग से और
फिर से करवाने का आश्वासन दिया है।

 

और भी पढ़ें :